21 दिन पूर्ण होने के बाद कैदी को अस्थायी कारागार से निकाल कर मण्डलीय कारागार के मुख्य जेल में रखा जाता है

आजमगढ़। जिलाधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि कुछ समाचार पत्रों में इस प्रकार की सूचना प्रकाशित हो रहा है कि मण्डलीय कारागार इटौरा में कोविड-19 के पाॅजिटिव मरीज पाये गये है। जिलाधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि जनपद में कोविड-19 के केस जब आने प्रारम्भ हुए, तभी उसी समय से मण्डलीय कारागार इटौरा परिसर में नये कैदियों को रखने के लिए अस्थायी जेल बनाया गया है। उन्होने बताया कि जब कोई नया कैदी मण्डलीय कारागार में आता है तो सबसे पहले उसे नये कैदियों के लिए बनाये गये अस्थायी जेल में 21 दिन के लिए रखा जाता है। जब कैदी को अस्थायी जेल में 21 के अन्दर कोरोना संक्रमण के कोई लक्षण नही आता है, तो 21 दिन पूर्ण होने के बाद कैदी को अस्थायी कारागार से निकाल कर मण्डलीय कारागार के मुख्य जेल में रखा जाता है। उन्होने बताया कि वर्तमान समय में कोविड-19 के जो भी पाॅजिटिव केस पाये गये है वह नये कैदियों के लिए बनाये गये अस्थाीय कारागार के है। वर्तमान समय में मुख्य जेल में कोविड-19 के कोई पाॅजिटिव कैदी नही है।