सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एक शानदार शख्सियत और बेहतरीन शायरा

महिला काव्य मंच प्रयागराज ईकाई के तत्वावधान में महिला काव्य मंच की अध्यक्ष रचना सक्सेना के संयोजन में प्रयागराज की एक चर्चित गजलकारा डा. नीलिमा मिश्रा पर केन्द्रित एक समीक्षात्मक परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा में नगर की अनेक वरिष्ठ महिला साहित्यकारों ने भी भाग लिया। गजलकारा ’महक जौनपुरी’ कहती है कि नीलिमा गजल की सिद्धस्त शायरा हैं हालाँकि दोहे, कुण्डलिया, छंद, गीत आदि विधाओं में उनका लेखन बेहद प्रभावी रहता है रुमानियत पर शेर कहने में भी उनकी कोई टक्कर नहीं।  देखिए उनका एक मतला:-
परदे में सनम जो बैठा है कैसे उसका दीदार करूँ। 
इक सूरत मेरे दिल में है मैं कैसे ऑंखें चार करूँ। 
’डा. सरोज सिंह’ कहती है कि डा नीलिमा मिश्रा बहुमुखी प्रतिभा सम्पन्न अगणित भावों से परिपूर्ण संवेदनशील ,सजग रचनाकार हैं। विचारों की गहनता एवं भावों की प्रगाढ़ता ही किसी रचनाकार को कालजयी बनाती हैं। गजल को पेश करने का उनका अंदाज ही जुदा है। गजल जज्बात और अल्फाज का बेहतरीन गुंचा है,एक रसीला अंदाज है जो नीलिमा की गजलों में देखा जा सकता है।वरिष्ठ साहित्यकार ’उमा सहाय’ कहती है कि नीलिमा के जेहन में उर्दू शब्दों का अच्छा भंडार है और इन्होंने उर्दू लफ्जों को अपनी गजलों की पंक्तियों में माणिक मोतियों की तरह पिरोया है। नीलिमा की भाषा शैली का अंदाज पारंपरिक रूप से शायराना है। वह एक पूर्ण परिपक्व मुकम्मिल बेहतरीन शायरा हैं। वरिष्ठ साहित्यकार ’प्रेमाराय’ कहती है कि नीलिमा  में मानवीय संवेदनाओं और सामाजिक सरोकारों को सशक्त लेखनी मे निबद्ध करके अभिव्यक्त करने की अनुपम क्षमता है।बहुमुखी प्रतिभा सम्पन्न डा. नीलिमा मिश्रा साहित्यिक जगत मे उच्च कोटि की अप्रतिम कीर्तिलब्ध कलाकार हैं। संगीत और साहित्य का वो एक ऐसा संगम हैं जिसमें अवगाहन करने वाला आनंदातिरेक की सुखद अनुभूति करता है। डा. नीलिमा मिश्रा कलाकारों की नगरी प्रयागराज की अनुपम निधि हैं।
शहर की वरिष्ठ गजलकारा ’सुमन दुग्गल’ कहती है कि डाॅ नीलिमा मिश्रा साहिबा उम्दा गजलकारा के रूप में जानी जाती हैं। अपने गीतों और छंदबद्ध सृजन द्वारा हिंदी साहित्य को समृद्ध कर रही हैं।
मानवीय संवेदनाओं को निर्धारित शिल्प में ढाल कर इन्होने उन्हें खूबसूरत बिम्बों के साथ अभिव्यक्ति दी है। लयात्मक गजलें, छंद गीत इस के परिचायक हैं। ये शेर इस बात को स्पष्ट करेगा
कई फाँके बिता कर मर गया वो रास्ते में ही
गरीबी किस कदर मजबूर और लाचार होती है
आगे वह कहती है, डाॅ नीलिमा मिश्रा साहिबा की कलम इंसानी जीवन के हर पहलू को चित्रित करती है। परंपरागत विषय प्रेम, विरह के अतिरिक्त इन्होंने सामाजिक, राष्ट्रीय और समसामयिक विषयों पर भी लेखनी उठाई है। वरिष्ठ लेखिका ’मीरा सिन्हा’ कहती है कि उनकी रचना प्रक्रिया उनके ही शब्दोँ मे श्शब्द की सीमायें लेकिन भाव है अगणित हमारे उनका भविष्य बहुत उज्जवल है प्रयागराज की वरिष्ठ कवयित्री ’देवयानी’ कहती है कि कवयित्री ने हिंदी और उर्दू भाषा को बहुत ही समझ के साथ कविता मे पिरोया। जहां इनको मिलाया उसका भी प्रयोग बहुत सुंदर रहा। अर्थ पूर्ण बंदिश पाठक को विभोर करता है।
वरिष्ठ कवयित्री ’जया मोहन श्रीवास्तव’ कहती है कि जीवन के हर पहलुओं को उन्होंने छुआ है। जब नीलिमा सस्वर पाठ करती है तो श्रोता मन्त्र मुग्ध हो स्वर लहरी में खो जाता है। वरिष्ठ कवयित्री ’कविता उपाध्याय’ कहती है, नीलिमा मुशायरों की जान हैं, उनकी कविताओं में सूफियाना असर तो दिखता ही है कहन का अंदाज भी निराला है जिससे श्रोता झूमने पर मजबूर हो जाता है। ’ऋतन्धरा मिश्रा’ कहती है कि डॉ नीलिमा की गजलें दिल से रूह में उतर जाती है और सात सुरो के स्वर गजल, छंद, दोहे, गीत, मुक्तक मे सुरों का स्वरूप लय मे दिखता है ’डा. पूर्णिमा मालवीय’ कहती है सुपरिचित हस्ताक्षर काव्य गजल कहानी में अपनी पैठ बनाने वाली, कुशल संचालक, मितभाषी डॉ नीलिमा मिश्रा से साहित्य जगत अनभिज्ञ नहीं है। जिस किसी विधा पर वह अपनी धारदार लेखनी चलाकर सुरमई कंठों से संपूर्ण साहित्य जगत को मुक्त कंठ से प्रशंसा करने को बाध्य कर देती है। ’डा अर्चना पाण्डेय’ का कहना है कि सामाजिक संबंधों एवं मानवमूल्यों के प्रति सजगता एवं उत्तरदायित्व, नारी के अस्तित्व की चिंता आपकी रचनाओं में सहज ही  निरूपित हैं। अंत में रचना सक्सेना ने उनकी उत्कृष्ट लेखनी के विषय में कहा कि साहित्य और शिक्षा के जगत से ताल्लुक रखने वाली गजलकारा नीलिमा मिश्रा  साहित्य जगत की एक चमकता सितारा है जिन्होने जीवन के विभिन्न रंगों, मानवीय संवेदनाओं, समाज की विसंगतियों पर अपनी कलम उठाई। इस परिचर्चा की अध्यक्षता महक जौनपुरी ने की।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति