जिलाधिकारी से पत्रकार पर लिखे गये फर्जी मुकदमे को निरस्त करने की मांग

झाँसी। दैनिक परमार्थ आवाज के ब्यूरो चीफ जिला झाँसी बबीना निवासी पत्रकार मनीष साहू पर दर्ज मुकदमे को निरस्त करवाया जाए व साक्ष्यों को मुकदमे में सामिल करे जिससे यह स्पष्ट हो जाएगा की पत्रकार मनीष साहू पर दर्ज मुकदमा फर्जी है तथा उसे निरस्त कर पत्रकार को न्याय दिया जाए।
बबीना के पत्रकार मनीष साहू ने 17 जुलाई 2020 को स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही व कोरोना पॉजिटिव मरीजों को छुट्टी कर घर भेजा। अभी भी है पॉजिटिव। शीर्षक से खबर शोशल मीडिया वॉट्सएप ग्रुप पर डाउनलोड वायरल व परमार्थ आवाज समाचार पत्र में प्रकाशित की थी। इस खबर के सम्बन्ध में 18 जुलाई 2020 को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बबीना के चिकित्साधिकारी डॉक्टर अंशुमन तिवारी ने पत्रकार मनीष साहू के खिलाफ बबीना थाने में रिपोर्ट धारा 186 188 67 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराया है। इस संदर्भ में बताना चाहते है कि 7 जुलाई 2020 को कोरोना पॉजिटिव मरीजों की लिस्ट जारी हुई थी। जिसमे बबीना के एक ही परिवार चार लोगो की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली थी। सात जुलाई 2020 को ही झांसी मेडिकल कॉलेज में भेज दिया था। सात दिन भर्ती के बाद सभी को स्वास्थ्य बताकर डिस्चार्ज सर्टिफिकेट देकर 14 जुलाई को घर वापस भेज दिया था। 16 जुलाई को जारी कोरोना पॉजिटिव मरीजों की लिस्ट में उन्हीं दो मरीजों के नाम 225 व0226 सीरियल नंबर पर आ गए जिन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा घर भेजा था। इसी प्रकरण को लेकर मनीष साहू ने समाचार दैनिक परमार्थ आवाज व वॉट्सएप ग्रुप पर वायरल किया था। नियमानुसार अगर मनीष साहू की खबर गलत थी तो उसे नोटिस देकर समाचार सम्बन्धित साक्ष्य मांगने चाइए थे। अगर मनीष साहू साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर पाते तो उनके खिलाफ रिपोर्ट लिखना उचित था बिना प्रकरण की जांच किए रिपोर्ट लिखना न्याय संगत नहीं है। पूर्व में भी सीएम योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए थे कि खबर सम्बन्धी प्रकरण में अभियोग दर्ज करने से पूर्व जांच ओर साक्ष्य एकत्रित करे। लेकिन यहां जिला प्रशासन द्वारा उल्टा किया जा रहा। बिना जांच के पत्रकारों को सच्चाई उजागर करने पर मुकदमे दर्ज किए जा रहे। 
अतः आपसे अनुरोध है कि मनीष साहू द्वारा उल्लेखित अस्पताल में भर्ती छुट्टी व सीरियल नंबर पर अंकित नामो का अवलोकन कर ले इससे स्पष्ट हो जाएगा की मनीष साहू ने जो खबर वायरल की है वह सही है। अगर उपलब्ध साक्ष्य में मनीस साहू की खबर गलत साबित होती है तो उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाए अन्यथा मनीष पर दर्ज मुकदमे को निरस्त किया जाए। मह्दोय मनीष साहू के पास न्यूज के साक्ष्य उपलब्ध है आपके मांगने पर सभी साक्ष्य उपलब्ध करा दिया जायेगा।