सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

खुद खुश रहे और लोगो को खुशियां बाटें: आन्द्रा वामसी

झांसी जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने नगर निगम सभागार में पीस कमेटी की बैठक की अध्यक्षता करते हुये समस्त धर्मगुरुओं, सामाजिक संगठनों के सदस्यों से कहा कि ईद-उल-अजहा का त्यौहार हर्षोल्लास से मनाये। खुद खुश रहे और लोगो को खुशियां बाटें! उन्होने कहा कि कोविड-19 के कारण हम सभी का दायित्व है कि इस महामारी से बचने के लिये सोशल डिस्टेसिंग व मास्क का प्रयोग लगातार किया जाये। उन्होने कहा कि झांसी की परम्परा रही है कि हर धार्मिक कार्य शांतिपूर्वक सम्पन्न हुये।
जिलाधिकारी ने नगर निगम सभागार में ईद-उल-अजहा (बकरीद) त्यौहार की तैयारियों पर मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ संवाद स्थापित करते हुये कहा कि प्रशासन की प्राथमिकता है कि त्यौहार शांतिपूर्ण ढंग से मनाया जाये। उन्होने कहा कि कोविड-19 को लेकर जो शासन से दिशा-निर्देश प्राप्त हुये है उन्ही का अनुपालन सुनिश्चित हो। सामूहिक कुर्बानी प्रतिबन्धित है सामूहिक नमाज भी नही होगी। घरों पर ही त्योहार मनाए व नमाज अदा करें। इसके साथ ही कुर्बानी के बाद अवशेष को खुले स्थानों पर न फेंके। उनका सही ढंग से निस्तारण हो।
जिलाधिकारी ने कहा कि झांसी शहर विशेष रुप से पुराने इलाके में कोविड केस अधिक आ रहे है। अतः अधिक सर्तकता बरतने की जरुरत है। उन्होने कहा कि डायबिटीज, कैंसर, बीपी, सांस के मरीज पहले जानकारी दें और कोविड टेस्ट कर ले ताकि उनका समय से इलाज करते हुए उनका जीवन सुरक्षित किया जा सके। उन्होने जनता से अपील करते हुये कहा कि इंटीग्रेटेड कन्ट्रोल रुम जिसका नम्बर 0510-2371101 तथा 2371100 है पर तत्काल जानकारी दे। किसी भी समस्या अथवा गम्भीर रोगों से ग्रस्त मरीज की उसे तत्काल चिकित्सा उपलब्ध करायी जायेगी।
पीस कमेटी की बैठक में नगर आयुक्त अवनीश राय ने उपस्थित मुस्लिम धर्मगुरुओं से कहा कि अफवाहों पर ध्यान न दे, जो भी समस्या हो तत्काल बताये। समस्या का निस्तारण किया जोयगा। त्यौहारों में कोई कठिनाई नही होगी, यह विश्वास दिलाते है। नगर में सफाई व्यवस्था को और मजबूत करते हुए बिजली पानी की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।
एसपी सिटी  राहुल श्रीवास्तव ने कहा कि गृह मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार ही त्यौहार मनाया जायेगा। उन्होने उपस्थित थाना प्राभारियों को निर्देश दिये कि क्षेत्र के प्रतिबंधित पशु पालकों को निर्देशित कर दे  कि वह अपने जानवर बांध कर रखे यदि खुले में पाये जाते है तो कार्यवाही होगी। उन्होंने कहा कि झांसी का इतिहास रहा है कि यहां  हर त्यौहार  पूर्ण शांति, सद्भाव और सौहार्द के वातावरण में मनाए गए हैं, इस परंपरा को बनाए रखने के लिए सौहार्द को किसी भी दशा में बिगड़ने नहीं दिया जाएगा कहीं पर कोई गड़बड़ी पाई जाती है तो सख्त कार्यवाही की जाएगी। पीस कमेटी की बैठक में शहर काजी ईदगाह इमाम  मुफ्ती साबिर कासिम ने शासन को आश्वस्त करते हुये कहा कि सार्वजनिक नमाज अदा नही होगी और सामूहिक कुर्बानी भी नही जायेगी। घरों पर ही नमाज अदा करेगे। यह बात लोगो को भी समझायेगे।
शिया मौलाना शाहने हैदर ने कहा कि ईद का मौका है लोगो को खुशियां बांटना है। किसी भी प्रकार की शिकायत नही होगी त्यौहार पर बिजली, पानी की आपूर्ति निरंतर हो। याकूब अहमद मंसूरी ने कहा कि नगर के प्रेमनगर व सीपरी बाजार क्षेत्र में कुर्बानी अधिक होती है। जिस कारण वहां सफाई की व्यवस्था बेहतर होनी चाहिये। नगर निगम द्वारा वहां कुर्बानी के बाद अवशेष गाडियों से ले जाकर निस्तारण कराये। शहर काजी मोहम्मद हाशिम ने पीस कमेटी की बैठक में कहा कि शहर में सफाई व्यवस्था ठीक नही है यदि सफाई नही होगी तो स्वास्थ्य भी खराब होगा। अतः सफाई व्यवस्था अभी से कर ली जाये। हिन्दू जागरण मंच के विनोद अवस्थी ने कहा कि स्ट्रीट लाइट खराब है उन्हे जल्द ठीक कराया जाए त्यौहार में अंधेरा होने से समस्या हो रही है।
इस मौके पर नगर मजिस्ट्रेट सलिल पटेल, सीओ सिटी  संग्राम सिंह, अपर नगर आयुक्त शादाब अहमद, श्री रोहन सिंह,  अतुल अग्रवाल किल्पन आदि उपस्थित रहे। 
पीस कमेटी का संचालन सराफा बाजार व्यापार संघ के  मुकेश अग्रावाल ने किया।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति