महोबा में मारा जा रहा गरीबो का हक

उत्तर प्रेदेश के महोबा जनपद के पनवाडी ब्लाक के ग्राम कोहानियां धरबार में गरीबो को नहीं मिल पा रही सरकार की सरकारी मुफ्त सुविदा। उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए पर्सनल डिस्टेंनसिंग का पालन किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। बाउजूद इसके सरकारी राशन की दुकानों पर इन निर्देशों को गंभीरता से नही लिया जा रहा है। जनपद महोबा के पनवाडी ब्लाक के ग्राम कोहनियां धरबार जिला महोबा के ग्रामवासियो ने कोटेदार के ऊपर संगीन आरोप लगाए है। लोगो का कहना है कि इस महामारी में जहा लोग दाने-दाने को मोहताज है। तो वही कोटेदार के द्वारा 6 दिन पहले ही कुछ राशन कार्ड लोगो के जमा करवा लिए जाते है ,तब कही कुछ ही लोगो को उसका राशन मिल पाता है। वही लोगों ने बताया कि सरकारी स्कूल में पढ़ने बाले बच्चो के लिए सरकार ने गेंहू ,चाबल दिया है पर इस गांव के बच्चो को कोई भी सरकारी राशन से संभंधित सुबिधा नहीं मिल पा रही है। जब कोटेदार से इस बारे में बात की तो उसने सरकारी कोटे से मिलने वाली मुफ्त सुबिदा की जानकारी का नहीं होना बताया है और कही न कही सीधे तौर पर प्रधान को इस संबंध में दोषी बताया है ग्रामवासियो का कहना है कि इस सुबिदा से हम लोग बंचित है और कोटेदार और ग्राम प्रधान की साठ-गाठ से लोगो में भारी आक्रोश है। ग्रामवासियो ने आला अधिकारियो से मामले की जांच करके उनका हक उन्हें दिलवाने की गुहार लगाई है। एक ओर जहां जिले के आला अधिकारियों द्वारा रात-दिन एक कर कोरोना मुक्त जिला बनाए रखने के प्रयास किए जा रहें हैं और गरीबो तक उनका हक दिलाने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है। वहीं सरकारी दुकानों पर कोटेदारों द्वारा बरती जाने वाली लापरवाही से जनता में कोटेदार और प्रधान के प्रति बहुत नाराजगी है।