नवजात शिशु चोरी करने वाले दो नफर गिरफ्तार


आजमगढ। श्री जयराम गोंड की पत्नी श्रीमती वन्दना निवासिनी गुजरपार थाना मुबारकपुर, आजमगढ़ को 9.जुलाई.2020 को पुत्र पैदा हुआ था। 12.जुलाई रात्रि में घर के सभी लोग भोजन करके घर में सोये थे। रात्रि में करीब 12.30 बजें जब बन्दना की नींद खुली तो देखा कि उसका नवजात शिशु चारपाई पर नही था। वंदना व उसके घरवालों ने नवजात शिशु की काफी तलाश की लेकिन नही मिला तो थाना स्थानीय पर श्री जयराम गोड द्वारा थाना मुबारकपुर पर मु0अं0सं0- 133/20 धारा 363,457 भादवि पंजीकृत कराया गया। 
पुलिस अधीक्षक आजमगढ प्रो0 त्रिवेणी सिंह’ द्वारा उक्त प्रकरण का संज्ञान लेते अपर पुलिस अधीक्षक नगर पंकज पाण्डेय व क्षेत्राधिकारी सदर के कुशल निर्देशन में प्रभारी निरीक्षक मुबारकपुर को  घटना का अनवारण व चोरी गये नवजात शिशु की बरामदगी हेतु निर्देशित किया गया। जिसके क्रम में आज प्रभारी निरीक्षक मुबारकपुर के कुशल नेतृत्व में वरिष्ठ उ.नि. देवेन्द्र कुमार सिंह , उ.नि. राजेन्द्र  कुमार मय हमराह कर्मचारीगण द्वारा मुकदमे  उपरोक्त का अनावरण करते हुए नवजात शिशु की सकुशल बरामदगी कर उसके माता-पिता को सुपुर्द करते हुए घटना कारित करने वाले प्रकाश में आये अभियुक्तगण 1. रोशन सिंह पुत्र रामजनम सिंह निवासी गूजरपार थाना मुबारकपुर आजमगढ 2. बबलू कुमार सिंह पुत्र रामरज सिंह निवासी गूजरपार थाना मुबारकपुर आजमगढ को ग्राम गूजरपार  से गिरफ्तार कर चालान न्यायालय किया जा रहा है।   
गिरफ्तार अभियुक्तो से पूछताछ की गयी तो रोशन सिंह उपरोक्त ने बताया कि मेरे चाचा बबलू सिंह का विवाह हुये 18 वर्ष हो गये है किन्तु अब तक कोई सन्तान नही हुई है। चाची मधू व चाचा बबलू काफी परेशन रहते थे मेरी चाची मधू का आईवीएफ विधि से गर्भधारण हेतु इलाज शारदा नरायन अस्पताल मऊ से चल रहा था किन्तु फिर भी कोई बच्चा नही हुआ। चार माह के गर्भ धारण के बाद गर्भपात हो गया। इस कारण हम लोग निराश होकर योजना बनाये कि किसी नवजात शिशु को चोरी कर उसे चाचा बबलू व चाची मधु का बच्चा बताएंगे। हमारे पडोस में ही रहने वाले जयराम गोड को लडका हुआ था। हम लोगों ने योजना के तहत 12. की रात्रि को जब जयराम की पत्नी बन्दना अपने घर में बच्चे को लेकर सोयी थी समय करीब 12 बजे रात्रि को मैं घर में घुसकर बच्चे को चुरा कर गांव के बाहर स्थित अपने ट्यूबवेल पर ले गया जहां पर मैंने अपनी बहन रागिनी सिंह तथा अपने बहनोई राजनाथ सिंह से बात किया। मैं बच्चे को लेकर मोटरसाइकिल से जीयनपुर स्थित शैलेन्द्र क्लीनिक मैटरनिटी होम सेन्टर अजमतगढ़ रोड पहुंचा जहां पर मेरी बहन रागिनी सिंह व बहनोई राजनाथ सिंह तथा  मेरे चाचा बबलू कुमार सिंह एवं चाची मधू सिंह व बुआ के लडके अनूप सिह (निवासी-धनचुला जीयनपुर) भी आ गये। वहीं से बच्चा पैदा होने की बात सभी रिश्तेदारी व सम्बन्धियो को तथा गांव में बतायी गयी। उसके बाद हम लोगो घर वापस आये तथा लोगो को  बताया गया कि बबलू कुमार सिंह को लड़का हुआ है।