सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

साहित्य साधक मुंशी प्रेमचंद की जयंती मनाई गई

शाश्वत सांस्कृतिक साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था प्रयागराज के तत्वावधान में साहित्य साधक मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर प्रेमचंद की कहानियां और उनके नाटक विषय पर आधारित एक गोष्टी का आयोजन, गूगल मीट द्वारा सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। इस आयोजन का संचालन शाश्वत संस्था की महासचिव ऋतन्धरा मिश्रा ने किया। आयोजन की अध्यक्षता सुप्रसिद्ध नाटककार कवि साहित्यकार अजीत पुष्कल ने की एवं वरिष्ठ नाटककार समीक्षक डाक्टर अनुपम आनन्द मुख्य अतिथि तथा वरिष्ठ रंगकर्मी रंग निर्देशक सुषमा शर्मा विशिष्ट अतिथि रही। वरिष्ठ रंगकर्मी अजय केसरी एवं साहित्य प्रेमी शिवमूर्ति सिंह मुख्य वक्ता थे। इस आयोजन में अध्यक्षता कर रहे अजित पुष्कल जी ने मुंशी प्रेमचंद जी की साहित्य साधना पर विचार रखते हुऐ कहा कि वैसे हिंदी साहित्य में प्रेमचंद को नाटककार के रूप में नहीं माना जाता और कथाकार और उपन्यास के संदर्भ में उनकी ख्याति है मगर यह बहुत कम लोग जानते हैं प्रेमचंद ने नाटक तो नहीं लिखे हैं पर नाटक लिखने की लालसा उनमें बहुत अंदर तक थी और वह एक कहानी में उन्होंने लिखा है कि मैं नाटक नहीं लिख सकता मगर उन्होंने राधेश्याम कथावाचक के एक नाटक पर अपने हंस में समीक्षा लिखी, इसका मतलब यह है कि उनके अंदर नाटक की समझ मौजूद थी‌। इसीलिए उनकी कहानियों में नाटकीय तत्व भरपूर मौजूद मिलता है इसका प्रमाण है नाटक वाले हिंदी में जो नाटक करते हैं अगर किसी साहित्यकार की कहानी लेनी होगी तो प्रेमचंद की कहानियां चुनते हैं। प्रेमचंद की कहानियों में पटकथा की भी क्षमता है। स्क्रीन प्ले के लिए उन्होंने बड़ी महत्वपूर्ण कहानियां लिखी है जैसे सद्गति और शतरंज के खिलाड़ी जो सत्यजीत रे ने बनाई गबन ऋषिकेश मुखर्जी ने, जो स्क्रीन में बहुत सफल रही। संक्षेप में मैं यह कहना चाहता हूं, कि उनकी कहानियों में नाटकीयता मौजूद रहती है चाहे पंच परमेश्वर, बूढ़ी काकी हो ठाकुर का कुआं हो ,घास वाली लॉटरी या बड़े भाई साहब जैसी कहानियां‌ हों, जो रंगमंच पर आधुनिक बोध और समकालीन ता देती है, इसके अलावा भी बहुत कहानियां हैं जिनकी लोग खोज नहीं कर पाते। मुख्य अतिथि अनुपम आनंद ने मुंशी प्रेमचंद के नाटकों पर प्रकाश डालते हुऐ कहा कि छायावादी गद्य के दो नमूने हैं। प्रसाद जी का और दूसरा प्रेमचंद का।दोनों ने नाटक लिखे हैं। आधुनिक काल  का प्रारम्भ भारतेंदु के नाटक नामक निबंध से होता है। प्रसाद जी ने भी रंगमंच नामक निबंध लिखा,आज प्रेमचंद के जन्मदिन पर उनके नाटकों पर चर्चा एक महत्वपूर्ण पहल है। विशिष्ट अतिथि सुषमा शर्मा ने कहा किआज मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर हम रंगकर्मी  उन्हें उनके नाटकों के माध्यम से याद करने के लिए एकत्रित हुए हैं मुंशी प्रेमचंद ने यूं तो 3 नाटक लिखे थे संग्राम, कर्बला और प्रेम की वेदी पर यह नाटक मात्र संवाद आत्मक माने जाते हैं। यह आश्चर्य का विषय है कि मुंशी प्रेमचंद आज ही रंगकर्म की दुनिया में अपनी कहानियों के मंचन के माध्यम से लोकप्रिय हैं ना केवल कहानियां बल्कि उनके उपन्यास उनका व्यंग तक मंच पर लगातार मंचित किए जाते हैं उनकी कहानियां कफन मंत्र बड़े भाई साहब पंच परमेश्वर ईद, ईदगाह आदि का मंचन लगातार होता रहा है वही उनके उपन्यास गोदान निर्मला भी मंच पर लगातार वंचित होते रहे हैं कहानी मंचन की दृष्टि से मुंशी प्रेमचंद रंग निर्देशकों के सर्वाधिक प्रिय लेखों में आते हिंदी गद्य का एक पूरा कॉल प्रेमचंद युग के नाम से जाना जाता है।


वरिष्ठ साहित्यकार शिवमूर्ति सिंह ने मुंशी प्रेमचंद के नाटकों के परिपेक्ष्य में चर्चा करते हुऐ कहा कि प्रेमचंद अपने कथा साहित्य एवं उपन्यास के लिये जाने जाते हैं यह वस्तुतः सही भी है क्योंकि यह बहुत कम लोगों को पता है कि उन्होंने नाटक भी लिखें हैं। गीतकार गुलजार ने मुंबई में एक नाट्यसंस्था का गठन करके प्रेमचंद की कई कहानियों का नाट्य में रुपांतरण करवा कर मंचन भी करवाया है। वैसे उनकी सभी कहानियों में चाहें कफन हो, ईदगाह हो, पंचपरमेश हो, गुल्ली डंडा हो या बड़े भाईसाहब, इसमें नाटक के सभी तत्व विद्यमान है। सभी कहानियाँ संवाद शैली में लिखी हुई है। कर्बला नाटक में प्रेमचंद की नाट्य कला का पूर्ण विकास देखा जा सकता है। यदि उन्होने अपने को नाट्य लेखन की ओर केन्द्रित किया होता तो निसंदेह वे हिन्दी के बड़े नाट्यकारों में गिने जाते। कर्बला नाटक कथानक, कथोपकथन, भाषा शैली, संवाद सभी दृष्टि सेएक श्रेष्ठ नाटक है मुस्लिम पात्रों की भाषा उर्दू है हिन्दू पात्रों की भाषा संस्कृत भाषा है जो दुरुह है किन्तु भाव उसका स्पष्ट हो जाता है इस नाटक को पढ़कर प्रेमचंद के विषद अध्ययन का पता चलता है। कर्बला लिखने का मतलब सांप के बिल में हाथ डालना है यदि कहीं भी एतिहासिक या धार्मिक चित्रण में चूक होती तो मुस्लिम संप्रदाय इसका विरोधी हो जाता। यह नाटक हिन्दू मुस्लिम एकता का प्रतीक है और प्रेमचंद का अभीष्ट भी था। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता अजय केसरी ने भी अपने विचार रखे और कहा कि प्रेमचंद के बारे में कहना सूरज को दिया दिखाने जैसा है।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति