तीसरी आंख ड्रोन से भी निगरानी: शुभ्रा सक्सेना

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने बचत भवन के सभागार में करकरेत्तर मासिक बैठक में निर्देश दिये कि आबकारी, विद्युत, एआरटीओ लक्ष्य के अनुरूप राजस्व वृद्धि को बढाये। नोवेल कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी के बढ़ते प्रसार को देखते हुए देश व प्रदेश में राजस्व की अधिक जरूरत है। शासकीय कार्यो को सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुये मास्क लगाकर ही कार्यो को युद्ध स्तर पर पूरा करें। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि एसडीएम, ईओ अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण कर स्वयं सेक्टर अधिकारी निगरानी समितियों को सक्रिय रखे तथा आमजन को कोरोना से बचाव के प्रति जागरूक करें। निगरानी समितियों के सदस्यों से संवाद जारी रखा जाये। क्षेत्रों में साफ-सफाई एन्टीलार्वा, फाॅगिंग, सेनेटाइजेशन का कार्य निरन्तर करें। इसके अलावा निगरानी कमेटिया सेक्टर अधिकारी, एएनएम, आशा आदि पूरी तरह एक्टिव रहे। क्षेत्र में पूरा घूमकर कोरोना बचाव, जागरूकता का कार्य करते रहे तथा लोगों को आरोग्य सेतु व आयुष कवच कोविड एप को आम जनमानस को जागरूक कराते हुए एप डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करें। 
 जिलाधिकारी ने कहा कि सोशल डिस्टेसिंग के माध्यम से कार्य करे तथा मास्क का प्रयोग अवश्य करे एवं अनावश्यक रूप से कही पर भीड़-भाड़ का जमावड़ा न होने दें। शनिवार एवं रविवार को पूर्व की भांति स्वच्छता, संचारी रोग नियंत्रण अभियान के रूप में रहेगा। पल्स आक्सीमीटर स्केनिंग थर्मा मीटर खरीद ले जहां जरूरत है वहां अवश्य पहुचाये। नगर निकाय/नगर पालिका के सभी वार्डो जरूरतमदो के पास पल्स आक्सीमीटर, थर्मामीटर अवश्य रहे तथा जांच आदि का कार्य युद्ध स्तर पर करते रहे। वसूली का कार्य स्थगित है अतः तहसीलदार पट्टो के आवंटन, तालाब पट्टों का आवंटन, सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे हटाने का कार्य, वृक्षारोपण पट्टा पर वृक्ष लगाने का कार्य शीर्ष प्राथमिकताओं पर करते रहे। पुराने तालाब जो राजस्व अभिलेखों में दर्ज है जो पट गये लोग पाटकर खेती कर रहे है उन्हें पुनः खुदवाकर उन्हें मूल रूप में वापस लाया जाये। वृक्षारोपण पट्टा पर वृक्षारोपण नही किया गया है उन्हें निरस्त कर गरीबों का पट्टा देकर वृक्षारोपण का कार्य कराये। भू माफिया चिन्हीकरण करे गांवों शहरी में तमाम दबंग असामाजिक तत्व है जो सरकारी जमीनों पर कब्जा करे हुए है जिसकी शिकायते लगातार प्राप्त हो रही है। जांच कर आवश्यक कार्यवाही करे। 
 जिलाधिकारी ने कहा कि लापरवाही के कारण कोरोना संक्रमण का प्रसार बढ़ रहा है। उन्होंने एडीएम सहित सभी एसडीएम को निर्देश दिये कि कोरोना से बचाव एवं नियंत्रण हेतु सभी प्रकार के उपाय किये जा रहे है। यदि किसी व्यक्ति को खांसी, जुखाम, बुखार एवं सांस सम्बन्धी परेशनी के कोई लक्षण हो तो जनपद में स्थापित एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कंट्रोल सेन्टर को अविलम्ब सूचना दें। सूचना देने के लिए स्वास्थ्य विभाग एवं राजस्व विभाग के नम्बर प्रदर्शित किये जा रहे है। यह सेन्टरों को 24 घण्टे संचालित रखा जाये। उन्होंने आमजनमानस से अपील की है कि यदि किसी व्यक्ति को खासी, जुखाम, बुखार, सास सम्बन्धी परेशानी हो तो छिपाये नही बल्कि जानकारी कंट्रोल रूम में भी दे सकते है जिससे उनका जांच व उपचार की कार्यवाही शीघ्र की जा सके। स्वास्थ्य विभाग के नम्बर 0535-2208145, 2701702, 2701703 एवं राजस्व विभाग 0535-2203320, 2203214 पर सम्पर्क कर सूचना दें सकते है। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देश दिये कि तहसीलदार, लेखपाल, अमीन आदि भी निगरानी कमेटी के रूप में सक्रीय होकर कोरोना की जागरूकता व बचाव आदि का कार्य करे तथा क्षेत्रों में भ्रमण कर आशा, एएनएम, ग्राम प्रधान, सेक्टर आधिकारी आदि से सामन्जस्य बनाकर सक्रियता के साथ कार्य करे। स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करें तथा कोरोना वायरस चैन को तोड़ने में आगे आये। प्राईमरी, सेक्डरी कान्टेक्ट पर विशेष ध्यान दिया जाये। इन्टर नेशल हवाई जहाज से आने वाले लोगों को नियमानुसार जांच कर 14 दिन व घरेलू हवाई, बस, ट्रेन और अस्पतालों से डिस्चार्ज व्यक्तियों को एक हफ्ते का होम क्वारंटाइन में रखा जाये। क्वारंटाइन पाजिटिव है तो उसे नियामानुसार होम आइसोलेशन में भी रखा जा सकता है। वह शर्त उसके पास स्वास्थ्य प्रोटोकाल के अनुरूप घरों में 2 शौचालय होना आवश्यक है साथ ही अलग घर के कमरो में रखे तथा घर व परिवारजनों से सम्पर्क न किया जाये। बीमार व्यक्तियों की जो भी मद्द करना चाहेता है वह पूरी तरह से पीपीटी कीट, सेनेटाइजेशन व सुरक्षा के साथ ही सहयोग दे सकते है। एसडीएम कोरोना के सम्बन्ध में आवश्यक बैठके सोशल डिस्टेसिंग व मास्क का प्रयोग करते हुए करते रहे। कोरोना के प्रसार व लोगों की आवाजाही के नियंत्रण, स्वच्छता, साफ-सफाई, सेनेटाइजेशन, फाॅगिंग आदि कार्यो को निगरानी रखने के लिए तीसरी आंख ड्रोन के माध्यम से भी निगरानी की जा सकती है। इसके लिए सभी को प्रशिक्षण एडीएम एफआर की देख-रेख में लेना जरूरी है।  
 इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल, अपर जिलाधिकारी प्रशासन राम अभिलाष, अपर जिलाधिकारी वि0रा0 प्रेम प्रकाश उपाध्याय, एडी सूचना प्रमोद कुमार सहित समस्त एसडीएम, तहसीलदार, सेक्टर अधिकारी सहित अन्य करकरेत्तर सम्बन्धी अधिकारी भी उपस्थित थे।