सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अन्तिम छोर पर खड़े व्यक्ति को भी सम्मान दे

कोविड-19 महामारी के संक्रमण के दृष्टिगत रखते हुए जनपद में कलेक्ट्रेट सहित एसपी कार्यालय, विकास भवन, बीएसए कार्यालय, समस्त जनपद के कार्यालय व तहसीलों, विकास खण्डो आदि स्थानों पर  सादगी, हर्षोल्लास एवं आकर्षक ढंग से 74वां स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने 74वें स्व.तन्त्रता दिवस 15 अगस्त राष्ट्रीय पर्व पर आयोजित मुख्य कार्यक्रम के अन्र्तगत कैम्प कार्यालय व कलेक्ट्रेट प्रांगण में ध्वजारोहरण किया तथा राष्ट्रीय ध्वज को सलामी दी। इस अवसर पर राष्ट्र गान से कलेक्टेªट परिसर गुन्जायमान हो गया। भारत माता के चित्र माल्यापर्ण कर कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम सभी लोग देश को अग्रसर करने के साथ ही राष्ट्र की एकता अखण्डता की रक्षा करने के साथ-साथ प्रदेश सरकार के सबका साथ, सबका विकास एवं सबका विश्वास तथा आत्मनिर्भर भारत बनाने की अवधारणा को अंगीकृत करते हुए जनपद व प्रदेश को स्वच्छ, स्वस्थ, समर्थ तथा सर्वोत्तम प्रदेश बनाने के लिए कटिबद्धता का संकल्प ले। उन्होने कहा कि 15 अगस्त के दिन देश स्वतन्त्र हुआ था और यह राष्ट्रीय पर्व है जो तिरंगे के गौरवशाली इतिहास के साथ ही हमारे अनगिनत देश भक्तों तथा अमर बलिदानियों जिन्होने जीवन भर संघर्ष कर जो स्वाधीनता हासिल कराई थी उसके महत्व, उनकी कुर्बानियों के साथ ही हमें अपने कर्तव्यों को स्मरण दिलाता है। उन्होने आहवान किया कि देश की आजादी को अक्षुण्ण बनाये रखने के सभी मिलजुल कर प्रयास करेें, तथा लाईन के अन्तिम छोर पर खड़े व्यक्ति को भी सम्मान दे, उसकी पूरी बात सुने तथा जनता का विश्वास पाने में आगे आये। 
 जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि स्वतन्त्रता के मूल्यो, भावनाओं, कुर्बानी आदि को याद कर हृदय से आत्मसात किया जाये। कोविड-19 महामारी संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए सोशल डिस्टेसिंग व मास्क, सैनटाइजर व प्रोटोकाल के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए कार्य किया जाये तथा गरीबों, मजलूमों की समस्याओं को दूर कर सक्रिय भूमिका निभाये। अभिव्यक्ति धर्म व स्वतंत्रता है इसका सही तरीके से उपयोग करें। कूड़ा कचरा गंदगी न फैलाये। विज्ञानी मानसिकता व सोच को आगे बढ़ाकर अपनी जिम्मेदारियों का भली भांति निर्वहन कर रचनात्मक व सकारात्मक कार्यो से राष्ट्र निर्माण में अपनी भूमिका अदा करें। 


जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि आजादी के बाद से देश और प्रदेश मे कई सफलताएं व कीर्तिमान स्थापित किए है और निरन्तर विकास की ओर बढ़ रहा है। प्रदेश सरकार कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए ‘सबका साथ, सबका विकास एवं सबका विश्वास’ संकल्प के साथ सभी के हित से जुड़ें निर्णय ले रही है जिससे विकास के नये रास्ते खुल रहे है और जनपद व प्रदेश तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश सरकार द्वारा समाज के विभिन्न वर्गो के तथा राज्य के समग्र विकास के लिये संचालित महत्वपूर्ण योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया। विसंगतियो और कमियो को दूर किया जाना चाहिए। कुदरत ने भी प्रकृति मे विविधताएं देखकर प्रकृति को संुदर किया है। धर्म जाति, वर्ग, परिवार आदि से भी उठकर अनेकता व विविधता के महत्व को समझते हुए विकास की ओर बढ़े। 
 डीएम ने कहा कि मानव ईश्वर की श्रेष्ठ रचना है जिसमें बुद्धि विवेक दोनो है गलत और सही फैसला करने की क्षमता है अतः आत्मलोचन कर सही कार्यो व सही निर्णर्यो को नींव रखकर उसको आगे बढ़ाये। उन्होने कहा कि देश को आजादी दिलाने वाले शहीदों, देशभक्तों के जीवन मूल्यो एवं आदर्शो का स्मरण किया जाये तथा अच्छे कार्यो को सम्पादित कर महान देशभक्तों के सपनों को साकार किया जाये। उन्होने कहा कि रचनात्मक सकारात्मक कार्यो से देश व समाज आगे बढ़ता है। उन्होने कहा कि हमे अपने कतव्र्यो का निवर्हन पूर्ण ईमानदारी, निष्ठा के साथ करना चाहिए। उन्होने आहवान किया कि अमन चैन भाईचारा आपस में मेलजोल बढ़ाने तथा विकास कार्यो के सफल क्रियान्वयन हेतु सभी जनसहयोग दें। चरित्रवान, ईमानदार, कर्तव्यनिष्ठ बने तथा संकल्पों के अनुरूप स्वयं को ढालने का प्रयास करें। डीएम ने कोरोना जागरूकता के पोस्टर की लगी लरी/झंण्डियों का अवलोकन करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिये कि सूचना विभाग के कोरोना जागरूकता पोस्टर व सरकार की उपलब्धियों की पुस्तक सुशासन के 3 वर्ष प्राप्त कर आमजन में वितरित कर जागरूक करें। इससे पूर्व जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने इस मौके पर स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों के परिजन कुमारी देवी, विनोद कुमार, आशाराम, उदयभान सिंह, अर्जुन सिंह अपर बहादुर सिंह, अखिलेश कुमार, जय सिंह सेगर, विरेन्द्र सिंह आदि को शाल व पुष्पमाला व मिष्ठान भेंट कर सम्मान प्रकट किया। इस मौके पर एडीएम प्रशासन राम अभिलाष, नगर मजिस्टेªट युगराज सिंह, वरिष्ठ कोषाधिकारी जितेन्द्र सिंह ने सम्बोधित करते हुए कहा कि यह आजादी सदैव कायम रहे, इस आजादी की धरोहर को हम सभी को सम्भालकर रखना है, और देश की एकता एवं राष्ट्रीय अखण्डता को अक्षुण्ण रखने के लिए सदैव तैयार रहना होगा। सरकार द्वारा संचालित विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओ एवं कार्यक्रमो के सम्बन्ध में भी अवगत कराया गया। कार्यक्रम का संचालन रामेन्द्र मिश्र ने किया। मुख्य कोषाधिकारी जितेन्द्र सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस मौके पर सहायक निदेशक सूचना प्रमोद कुमार, प्रशासनिक अधिकारी, मंजू लता दीक्षित, महेश कुमार त्रिपाठी, ओएसडी के0के0 श्रीवास्तव, सुरेमलाल सहित अनेक जिला स्तरीय अधिकारीगण, पत्रकार बन्धु उपस्थित रहे। इसके अलावा कलेक्ट्रट परिसर, में वन विभाग द्वारा वृक्षारोपण जिलाधिकारी द्वारा किया गया। कलेक्ट्रेट में जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने आम सहित कई अधिकारियों ने विभिन्न प्रजातियों के फलदार वृक्षारोपण भी किया। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल द्वारा भी विकास भवन में झंण्डा रोहण किया गया। सभाकक्ष में कर्मचारियों को सम्बोधित किया गया। कार्यक्रम का संचालन रामेन्द्र मिश्र द्वारा किया गया। जिलाधिकारी ने रक्तदान अभियान व नशा मुक्ति अभियान का शुभारम्भ हस्ताक्षर व शपथ दिलाकर किया गया। 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति