सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जीवन की सफलता का आधार संतुलित ज्ञान है!

जीवन की सफलता का आधार संतुलित ज्ञान है:- मनुष्य की सफलता, प्रसन्नता तथा समृद्धि उसकी तीनों वास्तविकतायें भौतिक, सामाजिक तथा आध्यात्मिक गुणों के संतुलित ज्ञान एवं उनके विकास पर निर्भर होती हैं। जीवन बहुत बड़ी चीज है। केवल परीक्षा में प्राप्त किये गये अंकों का सफल जीवन से अधिक संबंध नहीं होता है। बालक ने भौतिक विकास कितना किया यह परीक्षा में विभिन्न विषयों में प्राप्त अंकों के रिजल्ट से मालूम चलता है। बालक ने सामाजिक या मानवीय गुणों का कितना विकास किया इसका जिक्र रिजल्ट में नहीं होता है। परिवार के सदस्यों के साथ सहयोग की भावना, बड़ों के लिए सम्मान, छोटे के लिए प्यार, अपने परिवार के सदस्यों एवं मित्रों के साथ मिलजुल कर रहने के गुणों का बालक में कितना विकास हुआ इत्यादि बातें सामाजिक विकास के अन्तर्गत आती हैं। जीवन की सफलता के लिए भौतिक विकास के साथ सामाजिक विकास भी जरूरी है। इसके साथ ही बालक ने कितना आध्यात्मिक विकास किया? इसका जिक्र भी रिजल्ट में नहीं होता है। जबकि मनुष्य भौतिक, सामाजिक तथा आध्यात्मिक गुणों के संतुलित विकास से ही वह पूर्ण गुणात्मक व्यक्ति बनता है।  
आध्यात्मिक शिक्षा से आत्मा का विकास होता है:- मनुष्य के अंदर एक आत्मा होती है जो परमात्मा का अंश है। यह रूह या आत्मा खुदा/परमात्मा से आती है। मनुष्य का जब देहान्त होता है तो यह आत्मा परमात्मा के पास वापिस लौट जाती है। धरती का पिता तथा दिव्य लोक का पिता परमात्मा दोनों ही हमारी भलाई चाहते हैं। शरीर का पिता भी मार्गदर्शन देता है तथा आत्मा का पिता परमात्मा भी मार्गदर्शन देता है। बालक को बाल्यावस्था से ही यह ज्ञान होना चाहिए कि माता-पिता की क्या आज्ञायें हंै? एक आज्ञाकारी बालक अपने माता-पिता की आज्ञाओं का पालन पूरे मन से करता है। बालक को यह भी जानना जरूरी है कि उसके बड़े पिता परमात्मा की उसके लिए क्या शिक्षायें तथा आज्ञायें हंै? एक प्रभु भक्त बालक परमात्मा की शिक्षाओं को जानकर जीवन में उनका पालन पूरी निष्ठा से करता है। 
मनुष्य को विचारवान आत्मा मिली है:- जीवन एक यात्रा है तथा संसार एक पड़ाव है। सबको इस संसार से एक दिन जाना है। हिन्दू धर्म के अनुसार 84 लाख पशु योनियों में जन्म लेने के बाद मनुष्य जन्म अपनी विचारवान आत्मा के विकास के लिए मिलता है। पशु योनियों में आत्मा का विकास करने का सुअवसर नहीं मिलता है। मनुष्य की विचार करने की शक्ति दिव्य लोक से जुड़ जाये तो जीवन प्रकाशित हो जाता है। जीवन के निर्णय गलत हो जाये तो हम दुःख में पड़ जाते हैं। हम यह कैसे पता करेंगे क्या सही है क्या गलत है? इस बात को जानने का तराजू यह है कि हमारा निर्णय परमात्मा की शिक्षाओं के अनुकूल है या नहीं। यदि हमारा निर्णय परमात्मा के निर्णय के अनुकूल है तो हमारा निर्णय सही है और यदि प्रतिकूल है तो निर्णय गलत है। हमें रोजाना प्रभु से वार्तालाप तथा प्रार्थना करने का स्वभाव विकसित करना चाहिए। 
ये अवतार हमारे गुरू हैं जो हमें परमात्मा का सही पता बताते हैं:- गुरू गोविन्द दोनांे खड़े काके लाँगू पांव, बलिहारी गुरू आपकी गोविन्द दियो बताय। ये अवतार राम, कृष्ण, बुद्ध, महावीर, ईशु, मोहम्मद, नानक, बहाउल्लाह हमारे गुरू हैं। ये गुरू ही हमें परमात्मा का सही पता बताते हंै। परमात्मा का पता पवित्र ग्रन्थ गीता, त्रिपटक, बाईबिल, कुरान, गुरू ग्रन्थ साहिब, किताबे अकदस, किताबे अजावेस्ता में हैं। अवतार रूपी गुरूओं ने यह पता हमें बताया है। परमात्मा ने अवतारों को दिव्य ज्ञान तथा पवित्र किताबे दी हैं। चूंकि भौतिक, सामाजिक तथा आध्यात्मिक गुणों के संतुलित ज्ञान से ही पूर्ण गुणात्मक व्यक्ति विकसित होता है। इसलिए हमें बच्चों को भौतिक के साथ सामाजिक तथा आध्यात्मिक गुणों का संतुलित ज्ञान बचपन से ही देना जरूरी है। 
धर्म एक है, ईश्वर एक है तथा मानव जाति एक है:- परमात्मा ने संतुलित जीवन जीने का जो ज्ञान पवित्र ग्रन्थों के माध्यम से दिया है। वह हर्ष, प्रसन्नता तथा समृद्धि का मार्ग है। बच्चों को सभी पवित्र ग्रन्थों की मूल शिक्षाओं का ज्ञान देना चाहिए। हमें सभी धर्मों की पवित्र पुस्तकें गीता, त्रिपटक, बाईबिल, कुरान, गुरू ग्रन्थ साहिब, किताबे अकदस, किताबे अजावेस्ता घर में लाकर रखना चाहिए। इन पवित्र पुस्तकों में दी गई शिक्षाओं का ज्ञान कराकर हमें अपने बच्चों को धर्म के वास्तविक स्वरूप अर्थात ईश्वरीय एकता से परिचित कराना चाहिए। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति