सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

श्रीराम मंदिर निर्माण आंदोलन के नायक

5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की भूमि पूजन एवं आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा करने के बाद ही विश्व की सबसे बड़ी लड़ाई वाला अयोध्या का राम मंदिर निर्माण का सपना साकार होने लगा राम मंदिर निर्माण में भूमि पूजन में शामिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ज्ी उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल तथा महंत नृत्य गोपाल दास जी शामिल रहे, राम मंदिर निर्माण के साथ ही सदियों तक इन्हें भी याद किया जाता रहेगा! 
राम मंदिर का निर्माण को लेकर हुए आन्दोलनों की हम बात करें तो इस आंदोलन में शुरू से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के साथ ही उसके सहयोगी संगठन जनसंघ, विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल, हिंदू महासभा सहित इत्यादि संगठनों ने समय-समय पर इस के आंदोलनों में अपना योगदान दिया आगे चलकर भारतीय जनता पार्टी के स्थापना के साथ ही उसका सबसे बड़ा मुद्दा राम मंदिर निर्माण ही रहा है। अयोध्या में राम मंदिर आंदोलन के वे चेहरे, जिनके बिना यह सपना सपना रह जाता।
 अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर 492 साल का लंबे इंतजार के बाद राम मंदिर निर्माण का सपना पूरा होता दिख रहा है, तो इसके पीछे कई लोगों का बड़ा योगदान है। वर्षों से अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लिए हुए आंदोलन ने कई प्रमुख चेहरों को समय-समय पर अभियान को आगे बढ़ाते देखा है। राम मंदिर के आंदोलन से जुड़े कुछ चेहरों को जहां प्रसिद्धि और प्रचार मिला, मगर कुछ चेहरे ऐसे भी हैं जिनके नसीब में सिर्फ गुमनामी ही आई। तो चलिए जानते हैं राम मंदिर के उन सभी प्रमुख चेहरों को, जिनके प्रयास के बिना राम मंदिर का सपना अधूरा था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीः- राम मंदिर आंदोलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अहम भूमिका रही है, 1990 के दशक में जब राम मंदिर निर्माण के आंदोलन को गति मिली तभी से वह सक्रिय रूप से अपना सहयोग देते रहे तथा गुजरात के मुख्यमंत्री रहे हो या देश के प्रधानमंत्री इस मुद्दे पर खुलकर राम मंदिर निर्माण के पक्ष में खड़े रहे।
योगी आदित्यनाथ जी महाराज:- उत्तर  प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज की भूमिका मंदिर निर्माण के लिए बहुत बड़ी रही है, उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद से कानूनी रूप से शासन द्वारा उत्पन्न समस्त अवरोधों को दूर किया तथा समय-समय पर अयोध्या की यात्रा कर आम जनमानस में भी मंदिर निर्माण के पक्ष में माहौल बनाने में काफी सराहनीय भूमिका रही।
महंत रघुबर दासः- मंदिर आंदोलन के आरंभकर्ताओं में से एक महंत रघुबर दास थे, जिन्होंने बाबरी मस्जिद के पास राम मंदिर बनाने की अनुमति के लिए फैजाबाद कोर्ट में याचिका दायर की थी। अयोध्या में कई संत अभी भी राम मंदिर के निर्माण के लिए कानूनी लड़ाई शुरू करने का श्रेय महंत रघुबर दास को देते हैं। हालांकि, बहुत से लोगो ऐसे हैं जिन्होंने गुमनाम रहना ही पसंद किया।
गोपाल सिंह विशारद:- राम मंदिर निर्माण के प्रमुख योद्धाओं में एक नाम है गोपाल सिंह विशारद का, जिन्होंने 1950 में स्वतंत्र भारत में मंदिर विवाद को लेकर पहला मामला दायर किया था। गोपाल सिंह विशारद बलरामपुर जिले के निवासी थे और हिन्दू महासभा के जिला प्रमुख थे। जब वह 1950 में भगवान राम का दर्शन करे जा रहे थे तो पुलिस ने उन्हें रोक लिया, इसके बाद उन्होंने एक याचिका दायर की और हिन्दुओं को रामजन्मभूमि तक बेरोक-टोक जाने की अनुमति मांगी। 
के.के. नायरः- राम मंदिर के इस सफर में 1930 बैच के आईएएस अधिकारी के.के. नायर भी गुमनाम हैं। के.के. नायर उस वक्त फैजाबाद के जिला मजिस्ट्रेट थे, जब 23 दिसंबर, 1949 की रात को रामलला की मूर्ति विवादित परिसर में रखी गई थी। तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और उस वक्त के मुख्यमंत्री गोविंद बल्लभ पंत ने विवादित स्थल से रामलला के मूर्ति को हटाने का आदेश दिया था, मगर नायर ने ऐसा करने से मना कर दिया। नायर ने अपने राजनीतिक आकाओं से कहा था कि मूर्ति हटाने से पहले उन्हें हटाना होगा। केरल के एलेप्पी के निवासी के. के नायर ने 1952 में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का विकल्प चुना और 1967 में जनसंघ के टिकट पर बहराइच से चैथी लोकसभा के लिए चुने गए। कैसरगंज लोकसभा सीट से उनकी पत्नी शकुंतला नायर भी दो बार चुनी गईं।
महंत दिग्विजय नाथ, महंत अवैद्यनाथः- साल 1949 में गोरखपुर में गोरक्ष मंदिर के मुख्य पुजारी महंत दिग्विजय नाथ ने मूर्ति को विवादित परिसर में रखने के बाद मंदिर आंदोलन का नेतृत्व किया। महंत जी ने सभी संतों और साधकों को एक मंच पर लाया और आंदोलन का खाका तैयार किया जो बाद में पूरे देश में फैल गया। साल 1969 में उनके निधन के बाद, उनके उत्तराधिकारी महंत अवैद्यनाथ ने मंदिर आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। महंत अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं, जिन्होंने मंदिर आंदोलन में भी सक्रिय भूमिका निभाई है।
सुरेश बघेलः- सुरेश बघेल भी इस सफर के गुमनाम चेहरे ही हैं, जिनके मंदिर में योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता, क्योंकि मस्जिद ढाहने वालों में इनका नाम प्रमुख है। मथुरा के वृंदावन के निवासी कार सेवक सुरेश बघेल ने बाबरी मस्जिद को गिराने का पहला प्रयास किया और पुलिस कार्रवाई का सामना किया। बघेल ने राम मंदिर के लिए पुलिस गिरफ्तारी से लेकर अदालतों के कई चक्कर लगाए हैं। फिलहाल, बघेल एक प्राइवेट कंपनी में 6 हजार रूपये प्रतिमाह की नौकरी करते हैं और इन्होंने मंदिर से संबंधित मुद्दे पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। 
अशोक सिंघलः- 1990 के दशक में जब मंदिर आंदोलन को गति मिली तब बाबरी मस्जिद के विध्वंस के की वजह से विश्व हिन्दू परिषद यानी विहिप नेता अशोक सिंघल हिंदुत्व के प्रमुख वास्तुकार बन गए। उनके नारे एक धक्का और दो, बाबरी मस्जिद तोड़ दो ने एक उन्माद पैदा किया और हिंदुओं को पहले की तरह लामबंद कर दिया। 2015 में सिंघल का निधन हो गया और वह राम मंदिर का निर्माण देखने के लिए अब इस दुनिया में नहीं हैं।
प्रवीण तोगड़ियाः- प्रवीण तोगड़िया (उस वक्त के वीएचपी के वरिष्ठ नेता) को मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका के लिए भी जाना जाता था। हालांकि, अशोक सिंघल के निधन के बाद उन्होंने अपना दबदबा खो दिया।
लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशीः- लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के कारण राम जन्मभूमि आंदोलन का वास्तुकार माना जाता है। इतना ही नहीं, राम मंदिर के पक्ष में आडवाणी के रथयात्रा को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए सबसे अहम कड़ी के रूप में देखा जाता है। भाजपा के शीर्ष नेताओं, आडवाणी मुरली मनोहर जोशी ने भी मंदिर आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिससे उनकी पार्टी को बड़ा राजनीतिक लाभ मिला। एक तरह से देखा जाए तो भारत की राजनीति में भाजपा का उदय, सीधे मंदिर आंदोलन और इन दोनों नेताओं द्वारा निभाई गई भूमिका से जुड़ा हुआ है।
विनय कटियारः- विनय कटियार न सिर्फ बजरंग दल के संस्थापक हैं, बल्कि एक फायरब्रांड हिंदू नेता भी हैं, जिन्होंने मंदिर आंदोलन को एक धार दी। कटियार      अयोध्या से तीन बार के सांसद बने, मगर बाद में राजनीतिक गुमनामी में चले गए।
कल्याण सिंहः- राम मंदिर निर्माण आंदोलन में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह एक अन्य महत्वपूर्ण शख्स हैं। जब बाबरी मस्जिद को ध्वस्त किया गया था, तब वह यूपी के मुख्यमंत्री थे और उसी दिन उनकी सरकार को बर्खास्त कर दिया गया था। कल्याण सिंह को अदालत की अवमानना के लिए दोषी ठहराया गया था। 
उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा:-  बीजेपी नेता उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा ने मंदिर आंदोलन में महिला ब्रिगेड का नेतृत्व किया है। दोनों अपने उग्र भाषणों के लिए जाने जाते रहे हैं। कहा तो यह भी जाता है कि साध्वी ऋतंभरा के उग्र भाषणों के कैसेट बाजार में प्रीमियम पर बेचे गए।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति