सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उर्दू शायरी के आखिरी पैरोकार थे फिराक: मुनव्वर राना


फिराक गोरखपुरी उर्दू शायरी के आखिरी पैरोकार थे। उन्होंने अपनी शायरी से उर्दू अदब को चरम पर पहुंचा दिया था, उनके बाद उर्दू शायरी ने अपना चोला बदल सा लिया है, अब उर्दू में ऐसी शायरी नहीं होती जैसा कि फिराक जमाने में या उनसे पहले होती थी। वो पंडित जवाहर लाल नेेहरु की वजह से सिसायत में आए थे, उन्होंने कांगे्रस और देश के लिए बहुत काम किया, लेकिन अपने उसूलों से कभी समझौता नहीं किया। यह बात मशहूर शायर मुनव्वर राना ने फिराक गोरखपुरी जयंती की पूर्व संध्या पर साहित्यिक संस्था ‘गुफ्तगू’ द्वारा आयोजित वेबिनार में कही।
मशहूर कथाकार ममता कालिया ने कहा कि रघुपति सहाय ‘फिराक’ ने अपनी उर्दू जबान और शायरी से सिद्ध कर दिया कि भाषा का मजहब से कोई रिश्ता नहीं होता। उनकी शायरी, बड़े-बड़े उर्दू शायरों के साथ एक पायदान पर रखी जा सकती है जैसे इकबाल, जिगर मुरादाबादी, जोश मलीहाबादी वगैरह। अपनी अलबेली जीवन शैली, मौलिक अध्यापन पद्धति और बेबाक बयानी के लिए वे मशहूर रहे। इलाहाबादी लोगों ने उनका गुस्सा और प्यार दोनों देखा है। उनकी शायरी का बड़ा संग्रह गुल ए नगमा आज भी बेजोड़ समझा जाता है। प्रो. वसीम बरेलवी ने कहा, इससे बढ़कर किसी शायर की महानता का क्या सुबूत हो सकता है कि वह जिस अहद में जिए उसके नाम से उसका वह अहद पहचाना जाए। उर्दू शायरी में विभिन्न दौर रहे हैं उसमें से फिराक और फैज़ के नाम से भी एक दौर रहा, फिराक का अहद उनकी जिन्दगी में उनके नाम से पहचाना गया।
मशहूर फिल्म गीतकार इब्राहीम अश्क ने कहा कि फिराक गोरखपुरी उस अहद के शायर हैं जब गजल जमाल-ए-यार की जुल्फों में उलझकर रह गई थी। ऐसे वक्त में फिराक ने अहम कारनाम ये किया कि गजल को मानी और मफहूम अता कर उसको गहराई और संजीदगी के साथ आला अदब के मैयार तक पहुंचाया।
प्रो. अली अहमद फातमी ने कहा कि उर्दू शायरी में फिराक की विशिष्ट पहचान के मैं तीन कारण समझता हूं। एक तो यह, कि उन्होंने उर्दू क्लासिकल पोएट्री को खूब पढ़ा था। खासतौर से वो मीर के बहुत आशिक थे और उन्होंने मीर का लहजा और अंदाज वगैरह खूब अपनाया। दूसरा बड़ा कंट्रीब्यूशन यह था, कि वो अंग्रेजी के बड़े प्रोफेसर थे और अंग्रेजी की जो रोमांटिक पोयट्री थी, उस पर उनकी बड़ी निगाह थी। उन्होंने रोमांटिसिजम को उर्दू शायरी में खूब बरता। तीसरा, जो उनका सबसे बड़ा कंट्रीब्यूशन है, और जो उर्दू गजल में फिराक से पहले नहीं था, या था तो बहुत ही कम था। वो ये था, कि उन्होंने हिंदू और हिंदुस्तानी संस्कृति का तालमेल उर्दू गजल में स्थापित किया।
इसका बेहतरीन उदाहरण उनका यह शेर है-
‘हर लिया है किसी ने सीता को
जिंदगी जैसे राम का वनवास।’
इनके अलावा शैलेंद्र जय, प्रो. सुरेश चंद्र द्विवेदी, अनिल मानव, मनमोहन सिंह तन्हा, प्रभाशंकर शर्मा, डाॅ. नीलिमा मिश्रा, दयाशंकर प्रसाद, अर्चना जायसवाल, नीना मोहन श्रीवास्तव, शिवपूजन सिंह, नरेश महरानी, संजय सक्सेना, रेशादुल इस्लाम, इश्क सुल्तानपुरी, शिवाजी यादव आदि ने भी विचार व्यक्त किए। संयोजन गुफ्तगू के अध्यक्ष इम्तियाज अहमद गाजी ने किया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति