सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारतेंदु हरिश्चंद्र आधुनिक हिंदी साहित्य के पितामह कहे जाते हैं

आनलाइन रंग संवाद में शाश्वत, सांस्कृतिक सामाजिक एवं संस्कृत संस्था, समन्वय रंगमंडल, आधारशिला रंगमंडल, समानांतर, मंथन कला, विनोद रस्तोगी संस्थान भारतेंदु बाबू के जन्मदिवस पर उन्हें नमन करते वरिष्ठ रंगकर्मी अभिलाष नारायण जी ने कहा भारतेंदु बाबू की कालजई कृति अंधेरे नगरी को प्रयाग, काशी के संगम से नया कलेवर दिया गया जिसमे मूल योगदान प्रयाग के महान निर्देशक डा सत्यव्रत सिन्हा का रहा, और प्रस्तुति में जान फूँकी राजा की भूमिका निभाने वाले काशी के श्री नील कमल चैटेर्जी ने. आधारशिला रंगमंडल के अजय केसरी भारतेंदु हरिश्चंद्र जी के जन्मदिवस पर मैं आधारशिला परिवार की तरफ से श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं और उनके सम्मान में बस मैं इतना ही कहूंगा वह आधुनिक हिंदी साहित्य, गद्य, पद्य एवं पत्रकारिता एवं आधुनिक हिंदी नाटकों के और उपनिवेशवाद के जनक कहे जाते हैं बाल्यकाल की अवस्था में मात्र 12 वर्ष की आयु में ही उन्होंने पंडित मंगला प्रसाद त्रिपाठी द्वारा रचित नाटक जानकी मंगल मे अभिनय भी किया मात्र 34 साल 4 महीने की अल्प आयु में दुनिया को अलविदा कह दिया लेकिन दुनिया छोड़ने से पहले वे अपने क्षेत्र में इतना कुछ कर गए कि हैरत होती है कि कोई इंसान इतनी छोटी सी उम्र में इतना कुछ कैसे कर सकता है हमें मालूम हो या ना हो लेकिन यह सच है कि आज का हिंदी साहित्य जहां खड़ा है उसकी नीवं का ज्यादातर हिस्सा भारतेंदु हरिश्चंद्र और उनकी मंडली ने खड़ा किया था उनके साथ पहली बार वाली उपलब्धि जितनी बार जुड़ी है उतनी बार बहुत ही कम लोगों के साथ जुड़ पाती है इसीलिए कई आलोचक उन्हें हिंदी साहित्य का महान अनुसंधानकर्ता भी मानते हैं इन्हीं शब्दों के साथ मैं उन्हें पुनः श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं।
संबंध में रंग मंडल की सचिव सुषमा शर्मा भारतेंदु हरिश्चंद्र का लेखन सीधे लोक चेतना से जुड़ता है और अपने युग के सारी गतिविधियों को प्रतिबंधित करता है उनके विचार में भाषा और साहित्य समाज को शिक्षित और संस्कारित करने का सबसे बड़ा माध्यम है ऐसे भारतेंदु हरिश्चंद्र को उनके जन्मदिवस पर मैं समन्वय रंग मंडल की ओर से श्रद्धा सुमन अर्पित करती हूं.।
शाश्वत की महासचिव ऋतंधरा मिश्रा भारतेन्दु हरिश्चन्द्र (9 सितंबर 1850-6 जनवरी 1885) आधुनिक हिंदी साहित्य के पितामह कहे जाते हैं। वे हिन्दी में आधुनिकता के पहले रचनाकार थे। इनका मूल नाम हरिश्चन्द्र था, भारतेन्दु उनकी उपाधि थी। उनका कार्यकाल युग की सन्धि पर खड़ा है। उन्होंने रीतिकाल की विकृत सामन्ती संस्कृति की पोषक वृत्तियों को छोड़कर स्वस्थ परम्परा की भूमि अपनाई और नवीनता के बीज बोए। हिन्दी साहित्य में आधुनिक काल का प्रारम्भ भारतेन्दु हरिश्चन्द्र से माना जाता है। भारतीय नवजागरण के अग्रदूत के रूप में प्रसिद्ध भारतेन्दु जी ने देश की गरीबी, पराधीनता, शासकों के अमानवीय शोषण का चित्रण को ही अपने साहित्य का लक्ष्य बनाया। हिन्दी को राष्ट्र-भाषा के रूप में प्रतिष्ठित करने की दिशा में उन्होंने अपनी प्रतिभा का उपयोग किया नाटक भारत दुर्दशा और अंधेर नगरी इसके अतिरिक्त अनेक काव्य कृतियां निबंध संग्रह अनुवाद किया है।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति