सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एकतरफा महिला कानून

एक तरफ विवाहित बेटियों को भी पैतृक सम्पत्ति में बेटों के बराबर हक। दूसरी तरफ मृतक आश्रित के रूप में बेटों को छोड़कर सिर्फ अविवाहित बेटियों को पिता की पेंशन में दिया जाता है हक, बेटे सिर्फ मारते रह जाते हैं झक! ऐसा बेटों के साथ भेदभाव क्यों? एक तरफ बेटा-बेटी की समानता की बातें बड़ी धड़ल्ले से होती हैं तो दूसरी तरफ समानता कब और कहाँ चली जाती है जब एकतरफा बेटी को मृतक आश्रित के रूप में पिता की पेंशन का हकदार माना जाता है। क्या ये बेटों के साथ भेदभावपूर्ण रवैया नहीं है? अगर इसी तरह बेटा-बेटी व स्त्री-पुरूष के नाम पर राजनीति करके कानून बनाये जाते रहेंगे तो इस समाज का बेड़ा बहुत जल्द ही गर्क हो जायेगा। बेटी को सिर्फ मृतक आश्रित के रूप में पिता की पेंशन का हकदार ही नहीं बल्कि  तलाकशुदा बेटी या विधवा बेटी को भी पिता की संपत्ति में कानूनन हकदार माना जाता है। भले ही बेटी पढ़ी-लिखी अपने पैरों पर खड़ी होने लायक हो। बेटों को तो सरकारी नीति व कानूनन 18 वर्ष की आयु पूरी करते ही पूर्णरूप से सक्षम मान लिया जाता है भले ही उसे अपनी पढ़ाई छोड़कर होटल पर बर्तन धुलने पड़ते हों। उन्हें किसी तरह का अनुदान क्यों नहीं दिया जाता है? बेटियों को ससुराल में न रहने पर भी पति से गुजारा भत्ता व मायके में रहने पर उसे पिता की सम्पत्ति पर हक दिया जाता है। वाह भाई वाह! आम के आम गुठलियों के दाम।  
एकतरफा महिला कानून व विचार व्यक्त करके समाज का कीमा निकालने के लिए उन महापुरूषों को ‘अनाड़ी’ तहेदिल से शुक्रिया अदा करते हैं कि जो ये वाक्य कहते हुए समाज के प्रति एकतरफा नजरिया रखते हैं कि, ‘‘बेटा तभी तक बेटा रहता है, जब तक उसकी शादी नहीं हो जाती, पर बेटी पूरी जिंदगी प्यारी बेटी रहती है।’’ दण्डवत प्रणाम करते हैं ऐसे एकतरफा नजरिया रखने वाले महापुरूषों का, शायद दूसरा पक्ष उन्हें देखने की फुर्सत न मिलती हो। लेकिन बेटियाँ क्या-क्या गुल खिलाती हैं एक अनाड़ी कवि ही बता सकता है जो बेटा-बेटी की राजनीति के भ्रमजाल में न पड़कर भारतीय समाज को समूल नष्ट होने से बचाने का भरसक प्रयास कर रहा है। सच है बेटियाँ अपने माँ-बाप की जिन्दगी भर प्यारी बेटियाँ ही रहती हैं लेकिन ये दायरा सिर्फ मायके तक ही सीमित क्यों? ससुराल में जाते ही ससुराल वाले माँ-बाप को अपना जानी-दुश्मन समझती हैं, इस कड़ुवे सच को जानने की किसी में हिम्मत नहीं है। हाँ बेटों को हमेशा नकारा व आवारा समझा जाता है लेकिन ये दौर शादी के बाद ही क्यों शुरू होता है? इसके बारे में किसी ने सोचा है। सोचा तो है पर सच्चाई स्वीकार करना किसी के बस की बात नहीं। हाँ, जो बेटे श्रवण कुमार की भूमिका निभाते हैं वह कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाने के साथ-साथ जेल की हवा भी खाते हैं तथा दुनिया से कूच कर जाते हैं तथा जो शादी के बाद पत्नी रूपी किसी दूसरे परिवार से आयी बेटी की हाँ में हाँ मिलाते हैं उन्हें समाज व समाज के बड़े-बड़े महापुरूष नकारा व आवारा की संज्ञा से नवाजते हैं। बेटियों के दूसरे नकारात्मक पहलू को जो शादी के पहले भी होता है उस सच को कहने की किसी में हिम्मत नहीं या सच्चाई जानने से भी परहेज करते हैं। जो अविवाहित प्यारी-प्यारी बेटियाँ अपने माँ-बाप की नाक में दम ही नहीं करतीं बल्कि मौका पड़ने पर अपने माँ-बाप व भाई को पृथ्वीलोक से स्वर्गलोक भेजने में भी नहीं हिचकती उनकी चर्चा न करकेे किताब का पन्ना पलट दिया जाता है।  
मेरी कोई बेटियों व महिलाओं से वैमनस्यता नहीं बल्कि एक कवि/लेखक व विचारक होने के नाते समाज में चल रहे एकतरफा नजरिये में बदलाव लाने का छोटा-सा प्रयास है क्योंकि समाज सिर्फ बेटा-बेटी व स्त्री-पुरूष के नाम पर राजनीति की चादर लपेटकर नहीं चलने वाला। समाज बेटा-बेटी व स्त्री-परूष के रूप में साइकिल के दो पहियों पर टिका है किसी एक के निकल जाने से नहीं चलता। आज उन माताओं, बहनों व बेटियों से पूछने पर हकीकत पता चल जायेगी जिन्होेंने इन एकतरफा महिला कानून व राजनीति के चलते अपने बेटे, भाई व पति खोयें हैं तथा जेल की हवा खाई है। सिर्फ बेटी व स्त्री के कंधे पर बन्दूक रखकर राजनीति करके व कानून बनाकर कोई समाज व राष्ट्र प्रगति के मार्ग पर आगे नहीं जा सकता। जहाँ लोग एकतरफा महिला कानून की आड़ में अपनों से ही उलझकर जिन्दगी और मौत से जूझते हों। अनाड़ी तो यही कहेंगे कि, अब भारत में बेटों का जन्म लेना एक अभिशाॅप बनता जा रहा है। 
नजरिया
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति