कभी हां कभी नां

बचपन से सुनता आ रहा हूं कि तस्वीरे बोलती हैं, इसी कारण कुछ तस्वीरे अपने मित्र से प्राप्त आपके समक्ष है। क्या अच्छा, क्या खराब सब समय-समय पर दर्ज होता रहता है। शायद इस तस्वीर देखने के बाद कुछ याद आ जाये।