हर्षोल्लास से मनाई गई ‘विश्व एकता सत्संग’ की 20वीं वर्षगाँठ

सिटी मोन्टेसरी स्कूल, प्रधान कार्यालय, लखनऊ के 300 से अधिक कार्यकर्ताओं ने आज बड़े हर्षोल्लास के साथ ‘विश्व एकता सत्संग’ की 20वीं वर्षगाँठ को आॅनलाइन मनाया। इस अवसर पर सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी एवं डा. (श्रीमती) भारती गाँधी, सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट एवं मैनेजिंग डायरेक्टर प्रो. गीता गाँधी किंगडन, सी.एम.एस. के चीफ एक्जीक्यूटिव आॅफीसर श्री रोशन गाँधी एवं विश्व एकता सत्संग की संयोजिका एवं चीफ एक्जीक्यूटिव सेक्रेटरी टु फाउण्डर सुश्री वंदना गौड़ ने अपने विचार रखे। 
 इस अवसर पर ‘विश्व एकता सत्संग’ की संक्षिप्त रूपरेखा बताते हुए सुश्री वंदना गौड़ ने कहा कि अनेक व्यवधानों व कोरोना जैसी महामारी के बावजूद ‘विश्व एकता सत्संग’ का आयोजन विगत 19 वर्षों से अनवरत जारी है, जिसका मकसद सिर्फ एक ही है कि समाज में एकता, शान्ति, सौहार्द व सद्भाव का वातावरण बनें। विश्व एकता सत्संग का सबसे बड़ा आकर्षण यह है कि इसमे सभी धर्मों का प्रतिनिधित्व होता है। उन्होंने सभी के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सभी के सहयोग व स्नेह की बदौलत ही यह विशेष आयोजन आज 19 वर्षों की अनवरत यात्रा पूरी कर अगले सोपान पर कदम रख रहा है और एकता, शान्ति व सद्भाव की यह यात्रा अनवरत जारी रहेगी।
 इससे पहले, स्कूल प्रार्थना एवं सर्वधर्म प्रार्थना के सुमधुर गायन से सत्संग का विधिवत शुभारम्भ हुआ, जिसने सभी सी.एम.एस. कार्यकर्ताओं में आध्यात्मिक चेतना जगाई। इस अवसर पर हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, बुद्ध, बहाई आदि विभिन्न धर्मावलम्बियों ने मिलजुलकर एकता, शान्ति व अमन-चैन की प्रार्थना की एवं सम्पूर्ण विश्व में एकता का अलख जगाने का संकल्प व्यक्त किया। संगीत शिक्षक श्री अरुण त्रिपाठी व उनकी टीम ने एक से बढ़कर एक सुमधुर भजनों के प्रस्तुतिकरण से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।
 सी.एम.एस. संस्थापिका व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. (श्रीमती) भारती गाँधी ने कहा कि मानवों में एकता होगी तो विश्व एकता अपने आप हो जायेगी। इस आधुनिक युग का धर्म एकता ही है जिसे हम सभी विश्ववासियों को समझना होगा। ईश्वर ने हमें रंग रूप की विविधता प्रदान की है परन्तु इसी विविधता में एकता एवं प्रेम का दिया जलाना हमारी जिम्मेदारी है। सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट एवं मैनेजिंग डायरेक्टर प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने कहा कि यह ‘विश्व एकता सत्संग’ से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है और यह विभिन्नता में एकता का परिचायक है। सी.एम.एस. के चीफ एक्जीक्यूटिव आॅफीसर श्री रोशन गाँधी ने कहा कि सत्संग का यह आयोजन हम सभी को अच्छे विचारों से परिपूर्ण कर रहा है।