वीर जवान शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह की शहादत

श्रीनगर के सोपोर में देश की सेवा करते हुए विगत दिवस से आतंकी हमले में रायबरेली के लाल व वीर जवान शैलेन्द्र प्रताप सिंह शहीद हो गए थे। देर साय शहीद का पार्थिव शरीर उनके निवास मलिकमऊ जवाहर बिहार कालोनी व पैतृक तहसील डलमऊ के ग्राम मीर मीरानपुर (अल्हौरा) पार्थिव शरीर के पहुंचते ही घर व क्षेत्र में कोहराम के मध्य शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह के अन्तिम दर्शन के लिए पूरा जनपद उमड़ा पड़ा। शहीदों की मजारों पर हर बरस लगेंगे  मेले, वतन पे मरने वालों का यही बाकी निशां होंगा। राष्ट्र रक्षा का संकल्प पूरा करते-करते ओढ़ लिया तिरंगे का कफन। जबतक सूरज चांद रहेगा शैलेन्द्र सिंह तेरा नाम रहेगा के नारों से जनपद में गूंज रही। शहीद के पार्थिव शरीर को उनके बेटे कुशाग्र ने पिता को जहां सलामी दी वही जनपद के जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव व पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार, एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, विधायक अदिति सिंह, दल बहादुर कोरी, राकेश कुमार सिंह, धीरेन्द्र बहादुर सिंह, मनोज कुमार पाण्डेय, राम नरेश रावत, धीरेन्द्र बहादुर सिंह, पूर्व विधायक राम लाल अकेला कई राजनैतिक पार्टियों के प्रतिनिधि व भारत सरकार की महिला एवं बाल विकास तथा टेक्सटाइल मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी/प्रतिनिधि आदि ने भी पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धासुमन अर्पित किये।


जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव व पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार समेत कई जनप्रतिनिधि ने शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह की अर्थी को कंधा दिया और पूरे राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार डलमऊ के घाट पर किया गया। बता दें कि रायबरेली के निवासी शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह श्रीनगर के सोपोर में तैनात थे, ड्यूटी के दौरान आतंकियों से लोहा लेते हुए रायबरेली का लाल शहीद हो गया। जिसके बाद से क्षेत्र व घर में शहीद के परिजनों में कोहराम मचा गया, शहादत की खबर सुनकर घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है तो वहीं इस घटना से पूरा क्षेत्र गमगीन है, शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह तीन बहनों में एक इकलौता भाई था जो कि श्रीनगर में सीआरपीएफ की 110वी कंपनी में सोपोर में तैनात था। शहीद की शहादत पर गर्व है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने श्रीनगर में आतंकी हमले में जनपद रायबरेली निवासी सी0आर0पी0एफ0 के शहीद जवान श्री शैलेन्द्र प्रताप सिंह के शौर्य और वीरता को नमन करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी है। मुख्यमंत्री जी ने शहीद के परिजनों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा की है। उन्होंने शहीद के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने तथा जनपद की एक सड़क का नामकरण शहीद श्री शैलेन्द्र प्रताप सिंह के नाम पर करने की भी घोषणा की है। मुख्यमंत्री जी ने शहीद श्री शैलेन्द्र प्रताप सिंह के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि शोक की इस घड़ी में राज्य सरकार उनके साथ है। प्रदेश सरकार द्वारा शहीद के परिवार को हर सम्भव मदद प्रदान की जायेगी। घटना पर प्रदेश के मंत्री, केन्द्रीय मंत्री ने अमर शहीद जवान शैलेन्द्र प्रताप सिंह की शहादत पर विनम्र श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि दुःख की इस घड़ी में हम सभी शहीद के परिजनों के साथ हैं, ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें, इतना ही नहीं, जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव व पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार समेत जनपद के सभी जनप्रतिनिधियों ने शोक सम्वेदना व्यक्त की, अमर शहीद जवान शैलेन्द्र प्रताप सिंह की शहादत पर डीएम ने विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। तहसील डलमऊ के गंगाघाट पर शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह को अन्तिम विदाई राजकीय सम्मान के साथ दी गई। शहीद की पत्नी चांदनी सहित पिता नरेन्द्र बहादुर सिंह व माता सिया दुलारी तथा अन्य परिजनों ने भी जनपद रायबरेली के लाल व वीर जवान शहीद शैलेन्द्र प्रताप सिंह को सलामी व हाथ जोड़कर अन्तिम विदाई दी गई। शहीद के पिता नरेन्द्र सिंह ने शहीद के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी तथा सीआरपीएफ ने शहीद को गाॅड आॅफ आॅनर भी दिया गया तथा डलमऊ घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम संस्कार किया गया।