परिवहन कार्यालय के चककर नही लगाना होगा सभी कार्य पेपरलैस होंगे

जिलाधिकारी झांसी आन्द्रा वामसी ने पं. दीनदयाल उपाध्याय सभागार में जनपद के समस्त आटो मोबाइल डीलर्स के साथ संवाद स्थापित करते हुये कहा कि शासन की मंशा है कि परिवहन कार्यालय दलालमुक्त हो। इसके लिये प्रदेश सरकार के द्वारा परिवहन विभाग में आम जनमानस को सुविधा पहुंचाने के लिये आनलाइन सेवा प्रारम्भ कर दी गयी है। जिससे आम जनमानस का कार्य बड़े ही आसान तरीके से सम्पन्न हो और उन्हें कोई समस्या न हो तथा परिवहन विभाग के चक्कर न लगाने न पड़े। आप सभी के सहयोग से ही यह सुविधायें आनलाइन आम जनमानस को दी जानी है। 
जिलाधिकारी ने दोपहिया व चारपहिया आटोमोबाइल्स डीलर्स से बात करते हुये कहा कि पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से आपको 25 आनलाइन सेवाओं के बारे में बिन्दुवार बताया गया है। आनलाइन सेवा के पूर्व अपने मोबाइल नम्बर का रजिस्ट्रेशन करना होगा तथा डिजीटल सिग्नेचर भी आपको लेने होंगे, उसके बाद सभी कार्य प्रापर ढंग से सम्पादित किये जा सकेगे। उन्होने कहा कि वाहन एवं सारथी सम्बन्धित 25 सेवायें वाहन पोर्टल पर प्रदर्शित होगी। जिसके माध्यम से प्रत्येक आवेदन की समय से जानकारी लेते हुये प्रगति की समीक्षा की जा सकेगी। यदि आवेदन किसी कारण लम्बित है तो उसकी भी जानकारी मिल जायेगी। उन्होने कहा कि अब फाइलों का रखरखाव नही करना होगा। अब डीलर ही डिजीटल फाइल को सुरक्षित रखेंगे।
एक दिवसीय सेमीनार में डीलरों से संवाद स्थापित करते हुये उन्होने कहा कि कमर्शियल वाहनों से सम्बन्धित 16 सेवाओं को भी आनलाइन किया गया है आप सभी इन योजनाओं की जानकारी अवश्य प्राप्त करें। उन्होने कहा कि सभी सेवाओं को आनलाइन करने के उददेश्य है कि परिवहन कार्यालयों को दलालमुक्त किया जाये ताकि आम जनमानस की सीधी पहुंच हो और वह सभी सुविधायें स्वयं वेबसाइड पर जाकर आवेदन करते हुये प्राप्त कर सकता है। ऐसे ग्राहक जिन्हें जानकारी नही उन्हें डीलर के माध्यम से वाहन पंजीकरण, डाइविंग लाइसेंस जारी करना, वाहन ट्रांसफर तथा वाहन पंजीयन की द्वितीय प्रति सहित अन्य सेवायें उपलब्ध करायी जानी है। जिलाधिकारी ने इस अवसर पर उपस्थित डीलरों आनलाइन सेवाओं के सम्बन्ध सुझाव व समस्याओं की जानकारी लेते हुये बताया कि वाहन की जानकारी कैसे और कब तक डीलर को सुरक्षित रखनी होगी। जिन वाहन स्वामियों को समस्या होती है तथा उनका नम्बर मिलने में समय लगता है जिस कारण वाहन स्वामियों को समस्या होती है तथा रजिस्ट्रेशन के बाद डीलर को प्रिन्टआउट वाहन स्वामी हो देना होगा।
एआरटीओ सत्येन्द्र कुमार ने उपस्थित डीलर्स से कहा कि आनलाइन सेवाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये ताकि आम जनमानस इन सेवाओं के लिये स्वयं आवेदन कर सकें। पंजीकरण में समय लगता था उसे खत्म कर दिया गया है। डीलर अब डिजीटल सिग्नेचर से पंजीकरण हेतु आवेदन कर सकते है। यदि किसी डीलर के पास डिजीटल सिग्नेचर नही है वह तत्काल बतायें ताकि उसका डिजीटल सिग्नेचर बनाया जा सके। उन्होने कहा कि डीलर को ही परिवहन विभाग की सुविधाओं का आनलाइन क्रियान्वयन करना है।
एक दिवसीय सेमीनार में शैलेन्द्र त्रिवेद्वी ने पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से समस्त 25 सेवाओं के सम्बन्ध में की जाने वाली आनलाइन कार्यवाही की जानकारी दी। उन्होने वाहन की पंजीयन पुस्तिका, स्वस्थता प्रमण पत्र, परमिट एवं डाइविंग लाइसेंस का प्रिन्ट कैसे प्राप्त किया जायेगा, उसकी प्रक्रिया की जानकारी दी। सेमीनार में एआरटीओ  सत्येन्द्र कुमार ने जिलाधिकारी सहित समस्त डीलरों के स्वागत किया। संचालन पं. सियाराम शरण चतुर्वेदी ने किया। डीलर एसोसिएशन द्वारा जिलाधिकारी को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। इस मौके पर राकेश बघेल जेएमके ऑटोमोबाइल्स, सुबोध सूरी सूरी ऑटोमोबाइल, पवित्र खन्ना नटराज ऑटोमोबाइल्स, अंकित अग्रवाल स्नेहा टीवीएस ऑटोमोबाइल्स,  आशुतोष राजपूत आदि डीलर उपस्थित रहे।