तहसील में काटा हंगामा

एक तरफ उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड बहुमत में सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार मुक्त सरकार के दावे करते हैं लेकिन इस सरकार में गरीबों को लूटने में ग्राम प्रधान व कुछ अधिकारियों के द्वारा कोई कोर कसर नही छोड़ रहे है। पूरा मामला ऊंचाहार कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत बेहरामऊ ग्राम सभा का है यहां पर ग्रामीणों का कहना है की प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हम लोगों को आवास मिलना था लेकिन ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत अधिकारी व रोजगार सेवक की दबंगई के सामने आवास हम को नहीं दिया जा रहा और हम से पैसे की मांग की जा रही है पैसा ना देने पर आवास सूची से नाम काट दिया गया और जो लोग आवास के पात्र नहीं हैं उनको आवास दे दिया गया और जो लोग आवास लेने के पात्र हैं उनको आवास नहीं दिया जा रहा हैं जिसकी शिकायत तहसील ऊंचाहार में खंड विकास अधिकारी को शिकायत पत्र सौंपा गया। जिसमे मौजूद रहे धर्मेंद्र पुत्र सुंदरलाल नन्हे लाल पुत्र रामपाल शिव भोला पुत्र सखाराम देशराज पुत्र सखाराम रामफेर पुत्र बाबूलाल सुनीता पत्नी बिंदेश्वरी राजवती पत्नी सदाशिव सखी पत्नी सियाराम सलमा बनो पत्नी मुनौवर पुष्पा देवी पत्नी शिव बहादुर सोनी देवी पत्नी सत्येंद्र सायरा बानो पत्नी साबिर हुसैन राम सजीवन पुत्र सुखन ये सभी लोग उपस्थित रहे है। जब इसी संबंध में जब खंड विकास अधिकारी से जानकारी की गई तो उन्होंने बताया कि कुछ लोग बेहरामऊ ग्राम सभा से आए हुए थे आवास के संबंध में तहरीर दिया है जिसकी जांच की जाएगी। अब देखना है की इन भ्रष्ट ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत अधिकारी व रोजगार सेवक के खिलाफ प्रशासन क्या कार्रवाई करता है क्या इन पूरे प्रकरण की जांच होती है या फिर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है।