सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डॉ.अमरसिंह निकम को 'होम्योपैथिक अस्पताल के जनक' की उपाधि से सम्मानित किया गया

होम्योपैथी के क्षेत्र में बेहतरीन व सराहनीय काम करने वाले डॉ.अमरसिंह दत्तात्रेय निकम ने पूरे महाराष्ट्र में एक खास पहचान बनाया है। रविवार 25 जुलाई 2021 को गुरुपूर्णिमा व स्वामी होम्योपैथिक अस्पताल,अहमदनगर के तृतीय वर्षगाँठ के अवसर पर अहमदनगर में एक भव्य समारोह का आयोजन किया गया था, जोकि सफलता पूर्वक संपन्न हुआ। जिसमें टीम मिशन होम्योपैथी के गुरु डॉ.अमरसिंह दत्तात्रेय निकम को पिछले छब्बीस वर्षों से 'आदित्य होम्योपैथी अस्पताल और हीलिंग सेंटर' के माध्यम से होम्योपैथी के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट कार्य व असाध्य रोगों के इलाज तथा रोगियों के देखभाल के लिए "होम्योपैथिक अस्पताल के जनक'" की उपाधि से सम्मानित किया गया। 

एशिया में पहला होम्योपैथिक अस्पताल 1995 में डॉ अमरसिंह निकम द्वारा स्थापित किया गया था।होम्योपैथी के माध्यम से ग्रॉस पैथोलॉजिकल मामलों को सफलतापूर्वक ठीक किया गया। गंभीर हृदय रोग, ब्रेन ट्यूमर, लीवर फेलियर, लकवा, निमोनिया, एक्यूट और क्रॉनिक डिजीज इत्यादि बीमारी उनके द्वारा लिखी गई थर्मल, मिशन, वाइटल फोर्स - 30 पोटेंसी इत्यादि पुस्तकों में उनके इलाज, लक्षण व अनुभव और अन्य चीजों को बताया गया है, जोकि आनेवाले डॉक्टरों का मार्गदर्शन करते है। वे होम्योपैथिक अस्पताल चलाने के तरीके के साथ-साथ सेमिनार, व्याख्यान, कार्यशालाओं के माध्यम से महामारी जैसी गंभीर स्थिति में होम्योपैथी का उपयोग करने के बारे में मार्गदर्शन करते है। निकम के आदित्य होम्योपैथिक अस्पताल में देश भर के साथ-साथ विदेशों से भी होम्योपैथिक डॉक्टर पढ़ने आते हैं।

होम्योपैथी के विज्ञान के जनक जर्मनी के डॉ. सैमुअल हैनिमैन हैं, लेकिन हैनिमैन के सभी सिद्धांतों का सटीक और सही तरीके से पालन करते हुए, 14 साल के ओपीडी अभ्यास के बाद डॉ. निकम ने 1995 में पुणे के पिंपरी में चार बिस्तरों वाला होम्योपैथिक अस्पताल शुरू किया था, जिसे अब पिछले 5-6 वर्षों में 100 बिस्तरों वाले अस्पताल में बदल दिया गया है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री श्रीपाद येशो नाईक, डॉ. डी वाय पाटिल उपस्थित थे। पिछले चालीस वर्षों में डॉ. निकम सर ने कई रोगियों को उनकी पुरानी बीमारियों से ठीक किया है और उन्हें नई और लंबी उम्र दी है। उन्हें उनके काम के लिए कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। लेकिन अब तक उन्हें "होम्योपैथिक अस्पताल के पिता" की उपाधि नहीं मिली थी और इसीलिए उनके सभी छात्रों ने टीम मिशन होम्योपैथी के माध्यम से गुरु पूर्णिमा को मनाया।

इस कार्यक्रम में होम्योपैथिक छात्रों के लिए डॉ. निकम ने अपने अनुभव को बताया और उनका मार्गदर्शन किया, जिससे वे उनके अनुभव को अपने काम में व इलाज में उपयोग कर सके और लोगों का अच्छा इलाज कर सके। इस कार्यक्रम में 100 से ज्यादा छात्रों ने उनके अनुभव का लाभ उठाया। इस कार्यक्रम के अवसर पर अहमदनगर के डॉ.साईनाथ चिंता, कोपरगांव के डॉ.शीतल कुमार सोनावणे, नासिक के डॉ. मुकेश मुसले और पुणे की डॉ.सौ. राखी मुनोत इत्यदि मौजूद रहकर कार्यक्रम को सफल बना। कार्यक्रम आयोजन को सफल बनाने के लिए डॉ. संकेत लांडे, डॉ. अनिल नवथर, डॉ. रुपेश सोनवणे, डॉ.गणेश वाघचौरे और डॉ. गणपत जाधव इत्यादि ने काफी मेहनत व सहयोग किया।कार्यक्रम का संचालन डॉ. नीलेश जंगले और डॉ. सुहासिनी चव्हाण ने किया। जबकि डॉ. सुनीता चिंता व डॉ. रूपाली जंगले  ने आये हुए अतिथिओं का आभार ब्यक्त किया।


 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति