सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जातीय जनगणना कराये जाने की माँग

समाजवादी पार्टी द्वारा मंडल आयोग की सिफारिशों को लेकर मंडल दिवस का आयोजन किया गया। समाजवादी पार्टी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष गिरिजा शंकर उर्फ बबलू लोधी के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने लाल टोपी लगाकर हाथ में माँगों से सम्बन्धित तख्तियाँ लेकर पार्टी के झण्डे बैनर के साथ गगन भेदी नारों के साथ जोरदार प्रदर्शन करते हुए सपा कार्यालय से कलेक्ट्रेट पहुँचे। महामहिम राष्ट्रपति को सम्बोधित 7 सूत्रीय ज्ञापन जिलाधिकारी के प्रतिनिधि को सौंपा। प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पार्टी के जिलाध्यक्ष इं. वीरेन्द्र यादव ने कहा कि 7 अगस्त 1990 को तत्कालीन केन्द्र सरकार ने मण्डल आयोग की सिफारिश को आधे अधूरे तरीके से लागू किया, जबकि पिछड़ा वर्ग आयोग द्वितीय के अध्यक्ष बी.पी. मण्डल ने पिछड़ी जातियों को राष्ट्र की मुख्य धारा में लाने के लिए विशेष अवसर का सिद्धान्त के अन्तर्गत देश की 3743 जातियों में विभक्त पिछड़ी जातियों की कुल आबादी पूरे देश में 60 प्रतिशत हैं, किन्तु उन्हें मात्र 27 प्रतिशत आरक्षण सरकारी नौकरियों में दिया गया है। साथ ही मंडल आयोग ने सिफारिश किया था कि देश की धन और धरती पर भी पिछड़ी जातियों को आरक्षण दिया जाए।  मोदी सरकार पिछड़ा वर्ग विरोधी कार्य कर रही है। विशिष्ट अतिथि समाजवादी पार्टी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव दिनेश कुमार यादव एडवोकेट ने अपने सम्बोधन में कहा कि देश की पिछड़ी जातियों को उनके हक सम्मान नहीं दिया गया तो सामाजिक न्याय का सपना अधूरा रह जाएगा।  जिला महामन्त्री अरशद खान ने कहा कि जब देश में पशु पक्षियों की गणना हो सकती है, तो जातिगत गणना क्यों नहीं की सकती, इसमें सरकार पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ भी नहीं पड़ेगा। नगर पालिका परिषद के पूर्व चेयरमैन हाजी मो0 इलियास ने कहा कि आबादी के अनुपात में सभी को हिस्सेदारी दी जाय।  सेन्ट्रल बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष .पी. यादव ने कहा कि देश में 1931 के बाद से जातिगत जनगणना नहीं करायी गयी, जिसके अभाव में पिछड़ों को उनका हक नहीं मिल पा रहा है। केन्द्र सरकार जातिगत जनगणना नहीं करा रही है, जबकि नीति आयोग भी इसकी संस्तुति कर चुका है। समाजवादी व्यापार सभा के जिलाध्यक्ष मुकेश रस्तोगी ने कहा कि नीट, मेडिकल की परीक्षा में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को रोके जाने पर जो लगभग दस हजार सीटों का नुकसान हुआ है, उसकी क्षतिपूर्ति के लिए व्यवस्था की जाए। पूर्व जिला पंचायत सदस्य चन्द्रराज पटेल ने कहा कि आरक्षित वर्गो को बैकलांग भर्ती शुरू करके नौकरियाँ एवं सुविधायें दी जायें। युवा नेता जितेन्द्र मौर्य ने कहा कि निजी क्षेत्रों में भी मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू कर आरक्षण का लाभ दिया जाये। छात्र सभा के जिलाध्यक्ष शुभम पाल ने कहा कि लिटरल इन्ट्री बन्द हो। इस अवसर पर मुख्य रूप से मो0 शमशाद, ब्रजेश यादव, राजकुमार लोधी, अस्मित यादव, अरविन्द चौधरी, शत्रुघ्न पटेल, सुरेश पटेल, मो0 सलीम खान, नौशाद राईनी, विनोद गुप्ता, अजय लोधी, रंजीत यादव, राजेश मौर्य, अशोक यादव, नौशाद घोसी, सोहन लाल पाल, अनूप लोधी, रामनेवाज यादव, सुशील मौर्या, रोशनी लोधी, रामश्री सिंह, फूलमती यादव, मो0 शाहरूख, उजैर अली, मो0 आसिफ, विमल लोधी, बजरंगी यादव, राजेन्द्र प्रताप, पवन पटेल, महादेव यादव, राकेश यादव, दिलीप यादव, दद्दन लोधी, जिला पंचायत सदस्य देशराज यादव, संजय पासी, उदय सिंह, -आलोक यादव, आशीष यादव, रामनरेश यादव, अनूप यादव, राहुल निर्मल, शिव सहाय लोधी, श्रीपाल लोधी-, गोविन्द बहादुर, शुभम श्रीवास्तव आर.के. शुक्ला, अरूण यादव, बालेन्द यादव आदि ने सम्बोधित किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति