सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एकलव्य समाज पार्टी निषाद बाहुल्य 169 सीटों पर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ेगी







एकलव्य समाज पार्टी की प्रेस कॉन्फ्रेंस दारूलसफा बी ब्लॉक के कॉमन हॉल में कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी गई कि स्वं जे.आर. निषाद, राष्ट्रीय अध्यक्ष एकलव्य समाज पार्टी की लम्बी बीमारी से निधन हो जाने के बाद पार्टी ने श्री चंद्रशेखर निषाद को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया है।प्रेस कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चंद्रशेखर निषाद ने आगामी विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर बड़ा ऐलान करते हुए बताया कि देश जब से आजाद हुआ है तब से देश प्रदेश में बहुत ही सरकार आई परंतु निषाद समाज का उत्थान के लिए किसी भी पार्टी की सरकार द्वारा ठोस कदम नहीं उठाया। निषाद समाज का शोषण ही किया गया है निषादों की वर्षों पुरानी मांग उत्तर प्रदेश की 17 अति पिछड़ी जातियां निषाद, कश्यप,केवट, बिंद आदि को अनुसूचित जाति में शामिल किए जाने की घोषणा 18 सितंबर 2001 को तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने सहकारिता सभागार, लखनऊ में की थी परंतु उक्त समाज की मांग को भाजपा द्वारा पूरा नहीं किया गया चूंकि केंद्र में विगत 7 वर्षों से प्रदेश में विगत  4.5 वर्षों से भाजपा की सरकार है यदि सरकार की मंशा निषाद समाज को आरक्षण देने की होती तो उत्तर प्रदेश सरकार प्रस्ताव भेजकर केंद्र सरकार से आसानी से निषाद समाज को अनसूचित जाति में शामिल करा सकती थी परंतु जानबूझकर निषाद आरक्षण की बात को 4.5 वर्षों से उत्तर प्रदेश सरकार ठंडे बस्ते में डाल रखी और अब चुनाव नजदीक आता देख केवल आरक्षण की विसंगतियों को दूर करने की बातें कहकर समाज को मूर्ख बनाकर धोखा देना चाहती है निषाद समाज का पुश्तैनी पेशा नदी, झील,जलाशय, बालू, मौरंग खनन पट्टा सरकार द्वारा छीन लिया गया है आज पूरे प्रदेश का निषाद समाज आक्रोश में है, जीवन-यापन की गम्भीर समस्या खड़ी है। प्रदेश में अराजकता का माहौल कायम है अपराधी बेखौफ है बहन-बेटियां, साधु-संत तक सुरक्षित नहीं है पुलिस का रवैया पीड़ित पक्ष को ही धमकाने में लगा हुआ है सरकार समाज के मुद्दों को हल करने में विश्वास नहीं रखती। सरकार निषाद समाज के दो-एक ब्रोकर जो समाज की ठगी दलाली का कार्य करते हैं तथाकथित लोगों को मंत्री पद का प्रलोभन सरकार द्वारा देकर पूरे समाज को गुमराह करने का काम कर रही है। देश में महंगाई चरम सीमा पर है देश की जनता बेरोजगारी-भुखमरी के दौर से गुजर रही है सरकार द्वारा बड़े-बड़े वादों के सिवाय जनता के हाथ कुछ नहीं लग रहा देश जब से आजाद हुआ है जो सरकार रही उसने ना पढ़ने दिया ना आगे बढ़ने दिया धर्म के नाम पर झगड़ा दंगा अलग करा दिया स्कूलों की बढ़ती फीस पर सरकार मौन है क्योंकि उन्हीं के नेताओं के अधिकांश स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, मेडिकल कॉलेज, अवैध काली कमाई से खड़ी हुई है और जनता से उनकी महंगी फीस उगाही करना उनका परम कर्तव्य बन गया है पुस्तकों के मूल्य निर्धारित होनी चाहिए जिससे जनता के बच्चों को कम दाम में किताबे मिल सके पढ़ सके, चिकित्सा-शिक्षा दोनों ही फ्री होनी चाहिए इसे व्यापार की नजर से देखना पूर्णता गलत है इस पर सरकार को अंकुश लगाना चाहिए परंतु सरकार है कि उन्हीं के साथ खड़ी नजर आती है एकलव्य समाज पार्टी इन्हीं सब मुद्दों को लेकर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में निषाद बाहुल्य 169 सीटों पर किसी भी बड़े दल से गठबंधन कर चुनाव लड़ेगी।







 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति