सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भविष्यवाणियाँ आश्चर्यजनक रूप से सत्य होती है


 

विशेष संवाददाता

वैदिक ज्योतिष एव प्राच्य विद्या शोध संस्थान लखनऊ के तत्वाधान में वाराह वाणी त्रैमासिक ज्योतिष पत्रिका के अलीगंज लखनऊ के कार्यालय मे 139वीं सेमिनार का आयोजन किया गया जिसका विषय ज्योतिष मे व्यक्तिगत अनुभव था। गोष्ठी में श्री आनंद एस. त्रिवेदी, श्री उदयराज कनौजिया, डा. डी.एस. परिहार, वरिष्ठ ज्योतिष श्री प्रकाश शर्मा आदि ने अपने विचार व्यक्त किये। श्री आनंद एस. त्रिवेदी ने उपचार ज्योतिष पर अपने अनुभव साझा करते हुये बताया कि 2019 उनके पास कठिन स्कैन्फोनिया का केस आया था जिसका उन्होंने 40 दिन तक दक्षिणी मुखी होकर एक लौकी लेकर साबरी मंत्र से उपचार दिया 40 दिन के बाद बीमार महिला आश्चर्यजनक रूप से ठीक हो गई। त्रिवेदी जी ने बताया कि मीन लग्न मे 8 वें भावगत गुरू जाॅब में बाधा देता है। जिसमे गुरू के उपचार से शर्तिया लाभ होगा, श्री कनौजिया जी ने बताया कि आज वे करीब 66 साल के है। उनकी पहली पोस्टिंग पंजाब नेशनल बैंक मे 22 वर्ष की उम्र मे अल्मोड़ा मे हुयी थी उन्ही दिनों उन्हें वापस अपने घर फरूखाबाद जाना था तो उनके एक स्थानीय सहकर्मी मि. जोशी जो ज्योतिष के अच्छे जानकार थे,  उन्होंने वहां जाने से मना किया और बोले कि अभी मत जाओ अभी तुम्हारा समय खराब चल रहा है। तुम्हारा काम सिद्ध नही होगा यदि जाना जरूरी ही है, तो अल्मोड़ा शहर की सीमा पर कुछ सामना रख देना आगे कुछ दूर चलने पर अचानक ड्राईवर ने ब्रेक लगाया हमारी गाड़ी एकाएक रूक गयी कुछ देर बाद जब हम मैदान मे आये तो मैंने ड्राईवर से पूछा कि आपने बे्रक क्यों लगाया तो वो बोला हमें तो मर ही जाना था अगर मै बे्रक ना लगाता तो गाड़ी हजारों फिट गहरी खाई मे गिर जाती और हम सब मर जाते हम स्तब्ध रह गये और जोशी जी की भविष्यवाणी का लोहा मान गये कनौजिया जी ने यह भी बताया कि यदि आपरेशन काल में शनिवार को राहू का नक्षत्र चल रहा हो तो गंभीर मरीज की मृत्यु हो जाती है। फिटकरी, लौकी, घृतुकुमारी बुध के पदार्थ है यदि राहू अशुभ हो तो नीम की दातौन करने से अप्रत्याशित लाभ होता है। कनौजिया ने बताया कि सफल ज्योतिषी बनने के लिये ज्योतिषी का बुध, गुरू और चन्द्रमा ग्रह उत्तम होने चाहिये।

श्री एस.पी. शर्मा ने बताया कि उन्होंने 1970 से ज्योतिष का अध्ययन शुरू किया इसके भी पीछे एक रोचक घटना है। उन दिनों 10-11 साल से उनका प्रमोशन नहीं हो रहा था तभी एक सहकर्मी ज्योतिषी ने उनकी कुंडली देखकर बताया कि आपका केवल एक ही प्रमोशन होगा बुढापे मे आपकी संपति नष्ट हो जायेगी और आप केवल हैंड टू माउथ हो जायेंगे शर्मा जी ने बताया कि यह घटना उनके साथ 2015-16 मे घटित हुयी अपनी छोटी लड़की के विवाह से जुड़ी एक अन्य ज्योतिषसीय घटना को साझा करते हुये उन्होंने बताया कि एक समय वो अपनी छोटी लडकी की शादी को लेकर बहुत परेशान थे इसी दौरान एक दिन शर्मा जी एक मंदिर गये वहाश् एक अत्यंत साधारण से दिखने वाले ज्योतिषी ने उनको बताया आप परेशान ना हो इसी साल आपकी लड़की की शादी हो जायेगी शादी कानपुर से होगी और लड़का लैक्चरर होगा उस ज्योतिषी की हर एक बात अक्षरशः सत्य हुयी उन्होंने अपने नाती प. पल्लव दूबे के बारे मे बताया कि उसकी भविष्यवाणियां आश्चर्यजनक रूप से सत्य होती है। उन्हांेने बताया कि पल्लव जी ने पाराशरी ज्योेेेतिष का उपयोग करके अपनी एक रिश्ते की बहन की अमेरिका से लौटने की एक दम सही तिथि बता दी कि वो 24 सितम्बर 2020 को अमेरिका से वापस आयेगी और ठीक 24 सितम्बर 2020 को ही उसका प्लेन दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरा श्री शर्मा जी ने बताया कि पाराशरी पद्धति भारतीय ज्योतिष की सर्वोत्तम विद्या है। श्री परिहार जी ने नाड़ी ज्योतिष मे तलाक योग पर अपने अनुभूत कुछ सूत्रों को उदाहरणों सहित बतलाया गोष्ठी में ज्योतिषाचार्य श्री राजेश श्रीवास्तव, प. आनंद एस. त्रिवेदी, पं. एस.एस. मिश्रा, पं. शिवशंकर त्रिवेदी, ज्योतिष भूषण श्री उदयराज कनौजिया, पं. अनिल कुमार बाजपेई एडवोकेट, और डा. डी.एस. परिहार ने भाग लिया गोष्ठी की अध्यक्षता श्री परिहार ने की गोष्ठी के अंत मे डा परिहार मे सबको धन्यवाद ज्ञापित दिया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति