सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आखिर हमें पुरूष दिवस मनाने की जरूरत ही क्या थी?

अनिल ‘अनाड़ी’, हास्य-व्यंग्य/ओज कवि/लेखक/विचारक

19 नवम्बर यानि अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस

आजादी के बाद जहां ये कल्पना की जा रही थी कि हम आजाद देश के आजाद नागरिक होकर स्वतंत्र रूप से हर्षोल्लास के साथ एक आम आदमी की तरह जिन्दगी के लम्हों का क्षण-प्रतिक्षण आनन्द उठा पायेंगे लेकिन आनन्द उठाना तो दूर हम अपने सामाजिक सरोकारों, संस्कारों से बहुत दूर होते चले जा रहे हैं। आज आजाद होने के बाद हम महिला-पुरूष, बेटा-बेटी, माता-पिता आदि के रूप में अलग-अलग विभाजित होते जा रहे हैं, जिसका नतीजा आज हमें अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस के रूप में देखने को मिल रहा है। आखिर हमें पुरूष दिवस मनाने की जरूरत ही क्या थी? इसी तरह महिला दिवस, बेटी दिवस, मातृ दिवस, पितृ दिवस आदि-आदि मनाने के लिए विवश होना पड़ रहा है। गोरे अंग्रेजों ने तो जाते-जाते सिर्फ देश के दो टुकड़े किये गये थे पर इनके वंशज आज समाज के एक-एक व्यक्ति को टुकडों में बाटकर ओछी राजनीति करने पर अमादा हैं। आखिर ये सब दिवस  मनाने को क्यों विवश हैं? पहले हमारे संयुक्त परिवार टूटे, बाद में परिवार टूटे अब तो परिवार क्या, एक-एक व्यक्ति टूटता जा रहा है। कुछ लोग कहते हैं कि हम परिवार चला रहे हैं तो अनाड़ी कहते हैं कि आप परिवार नहीं समझौता एक्सप्रेस चला रहे हैं, जिसमें न चाहने वाली जिम्मेदारियों को निभा रहे हैं, हा में हा मिला रहे हैं। एकआध अपवाद छोड़ दीजिए बाकी सबकी वही कहानी है। ये सब विघटन क्यों हुआ, कैसे हुआ इसको रोकने के लिए क्या उपाय हैं? पुरूष दिवस मनाने का सबसे बड़ा अहम् कारण पुरूषों के प्रति सरकारों, कानून व राजनीति का एकतरफा मनमाना रवैया है, जिसके चलते पुरूष की दशा एक निरीह प्राणी की तरह हो गयी है जो अपने ही परिवार में अपने ही लोगों में अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। उसकी दशा जानवर से बदतर हो गयी है इसलिए महिला आयोग व जानवर आयोग आदि तो देश में उपलब्ध हैं परन्तु पुरूष आयोग नदारद है।

पुरूष प्रधानता को तोड़-मरोड़कर प्रस्तुत करके भारतीय समाज में जो आग लगायी गयी है वह अब भयावह रूप ले चुकी है। काश! पुरूष प्रधानता को पानी पी-पीकर कोसने वाले शायद पुरूष प्रधानता का मतलब समझ पाते? पुरूष प्रधानता किसी व्यक्ति विशेष पर प्रभुत्व जमाकर रूतबा कायम करना नहीं बल्कि पुरूष प्रधानता का मतलब परिवार रूपी संस्था को एक माला में पिरोकर उसे सुचारू रूप से चलाने की जिम्मेदारी की भूमिका होती थी, जिसे पुरूष प्रधानता  का नाम देकर गला फाड़-फाड़कर चिल्ला, चिल्लाकर भारतीय परिवारों को तहस-नहस करने का कुचक्र रचा गया, जिसकी चपेट में सिर्फ पुरूष ही नहीं महिलाये भी आ रही है, जिसका परिणाम धीरे-धीरे जगजाहिर भी हो रहा है। पुरूष को हमेशा क्रूर का तमगा दिया गया जबकि क्रूरता महिला व पुरूष दोनों पक्षों में होती है। ये धारणा बदलनी होगी कि पुरूष है तो क्रूर ही होगा और महिला होगी तो बेचारी ही होगी। प्राचीनकाल के इतिहास को तोड़-मरोड़कर प्रस्तुत करके आज इस बदले हुए परिवेश में जबकि महिलाओं को पचासों कानूनी हथियार प्राप्त हैं भी जब महिला पुरूष के कन्धे से कन्धा मिलाकर समान रूप से चल रही है फिर भी उसको नजरन्दाज कर एकपक्षीय रवैया लगातार अपनाया जा रहा है। पुरूष आयोग दुनिया के चन्द देशों द्वारा मनाया जाता है अब धीरे-धीरे इसका स्वरूप बढ़ता जा रहा है लोगों में जागरूकता बढ़ रही है कि हा पुरूषों के हक के लिए देश के तमाम पुरूष संगठनों द्वारा जमकर संघर्ष किया जा रहा है, जिससे कि देश में पुरूष आयोग भी बन सके। कम से कम पुरूष नामक असहाय प्राणी अपनी व्यथा कहीं सुना सके। हालाॅकि अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस को उतने बड़े स्तर पर प्रचार-प्रसार नहीं मिल पाता क्योंकि जिस तरह से महिला दिवस, मातृ दिवस व बेटी दिवस को हमारी सरकारों द्वारा, मीडिया द्वारा बड़े जोर-शोर से तवज्जो दी जाती है परन्तु धीरे-धीरे पुरूष संगठनों द्वारा बिना किसी सहयोग से अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस को अपने स्तर से बड़े जोर-शोर से मनाया जाता है। 

आजादी के बाद स्वतंत्रता स्वच्छन्दता में परिवर्तित होती जा रही है जिसके चलते ही परिवार रूपी संस्था को टुकड़ो-टुकड़ों में बिखरकर अलग-अलग दिवस मनाने को विवश होना पड़ रहा है। परिवार में राजनीति व कानून समावेश कर चुका है जिससे धीरे-धीरे रिश्ते-नाते सब टूटने को मजबूर हो रहे हैं क्योंकि रिश्ते राजनीति व कानून से नहीं, आपसी तालमेल व समझ से चलते हैं। इसीलिए ‘अनाड़ी’ कहते हैं कि -

रिश्ते में जबसे प्रवेश कर गयी, राजनीति व कानून।

रिश्तों के होने लगे, खून-खून पे खून।

जब पुरूष का कोई पुरसाहाल लेने वाला नहीं है तो तमाम पुरूष संगठनों द्वारा ही अपने स्तर से हर वर्ष ‘अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस’ को धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि जब हक आसानी से न मिले तब उसके लिए लड़ना पड़ता है और आज ये लड़ाई पूरे देश में जोर-शोर से जारी है।

समस्त देशवासियों को ‘अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस’ की अनाड़ी की तरफ से हार्दिक बधाईया। 

अन्तर्राष्ट्रीय पुरूष दिवस के अवसर पर मेरी एक छोटी-सी कविता ‘पुरूष का दर्द’ प्रस्तुत है:-

पुरूष का दर्द

कौन कहता है मर्द के सीने में,

दर्द नहीं होता।

जिसके सीने में दर्द होता,

वह मर्द नहीं होता।

माना नारी की ममता का,

कोई मोल नहीं होता।

क्या पुरूश का इस समाज में,

कोई रोल नहीं होता।

जब बच्चा दर्द से रोता है,

क्या कोई पुरूश चैन से सोता है।

जो अपने आसू को पी जाये,

क्या वह इंसान नहीं होता है।।

यदि सीने में होता दर्द नहीं,

तो मजनू कोड़े ना खाता।

मुमताज महल की याद में ‘अनाड़ी’

कोई ताजमहल न बन पाता।।

यदि यही परम्परा है समाज की,

तो इसको झुठलाना होगा।

क्रूरता के इस ठप्पे को,

मन-मस्तिष्क से हटाना होगा।।

अनिल ‘अनाड़ी’

हास्य-व्यंग्य/ओज कवि/लेखक/विचारक

मो.: 9889046238, 9415596471

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

मनुष्य का जीवन अपने आसपास के वातावरण से ही प्रभावित होता है। व्यक्ति के आस-पास के पशु पक्षी उसके जीवन का अभिन्न अंग है। भारतीय ऋर्षियों तथा संसार के अध्यात्मवादियो ने संसार के पक्षियों को ना केवल ज्योतिष तथा मनुष्य के भाग्य से जोड़ा है। बल्कि पक्षियों को उपयोग शकुन ज्योतिष, फलित तथा प्रष्न ज्योतिष तथा अनेकों ज्योतिष, तांत्रिक उपचारों और शारीरिक मानसिक रोगों के निवारण में किया है। भारत मे पंच प़क्षी शास्त्र, कल्ली पुराण पर आधारित तोते द्वारा भविष्यवाणी, पक्षी तंत्र तथा शकुन ज्योतिष का प्रयोग आदिकाल से ही किया जाता है भारत मे गरूड़ जी, नीलकंठ, काकभुषुंडी,, हंस, जटायु व संपाती, शुकदेव जी आदि दिव्य पक्षियों तथा अनेक देवी देवताआंे वाहन के रूप मे पक्षियों को प्रयोग किये जाने का  वर्णन है। जैसे भगवान विष्णु का गरूड़, कार्तकेय जी का मयूर, माता लक्षमी का उल्लू, विश्वकर्मा, वरूण जी तथा स्वरसती जी का हंस आदि शनिदेव का कौआ आदि का प्राचीन काल मे पक्षियों द्वारा डाक सेवा युद्ध संबधी शकुन का भी काम लिया जाता था पक्षियों को स्वतंत्रता, नवीन विचारों, आनंद, तनाव, मुक्ति, प्रषंसा, यष, धन्यवाद देने, प्रजनन श

परिवर्तन योग से करें भविष्यवाणी

भारतीय ज्योतिशशास्त्र में भविष्यकथन के सैकड़ों सूत्रो का वर्णन है। इन्ही सूत्रों मे से एक है परिवर्तन योग जिसका वर्णन पाराशरीय और नाड़ी ग्रन्थों दोंनों मे पाया जाता है। हाँलाकि दोनो प्रकार के ग्रन्थों में इन सूत्रों को विभिन्न तरीको से प्रयोग किया गया है ज्योतिष मे परिवर्तन योग के तीन रूप पाये जाते हैं। 1. भाव परिवर्तन 2. राशि परिवर्तन 3. नक्षत्र परिवर्तन  भाव परिवर्तन पाराशरीय व कुछ नाड़ी ग्रन्थों जैसे षुक्र नाड़ी मे इसके सूत्रो का वर्णन पाया जाता है। जो भावा के स्वामियो के बीच स्थान परिवर्तन से बनता है। जैसे चतुर्थेश षष्ठ भाव मे जाय और षष्ठेश चतुर्थ भाव मे जाय। इसके भी तीन भेद हैं। 1. दो शुभ भावों के स्वामियों का परस्पर परिवर्तन जैसे लग्न व पंचम भाव का परिवर्तन या दो केन्द्रेशों का परिवर्तन या केन्द्र और त्रिकोण भाव मे परस्पर परिवर्तन। 2. दो त्रिकेशांे का परिवर्तन जो विपरीत राजयोग बनाता है। 3. किसी केन्द्रेश या त्रिकोणेश का त्रिकेश से परिवर्तन। जैसे दशमेश का द्वादेश से परिवर्तन या पंचमेश या द्वादेश के बीच परिवर्तन। 2. ग्रह या राशि परिवर्तन  इसका वर्णन स्व. आर. जी. राव द्वारा अनुवादित और

जेल जाने के योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार कुंडली के आठवें मतांतर से बारहवें भाव से कारावास तथा सजा का विचार किया जाता है। कुंडली के इस घर में राहु अगर अष्टमेश के साथ हो तो उसके अशुभ प्रभाव के कारण व्यक्ति को किसी बड़े अपराध के कारण जेल जाना पड़ता है। शनि  मंगल और राहू मुख्य रूप से यह तीन ग्रह एवम् इनका आपसी सम्बन्ध जेल के कारक है। शनि व 12 भाव सजा का कारक है। छठा भाव व मंगल राहू अपराध के कारक है। अगर किसी व्यक्ति की कुण्डली में मंगल और राहु एक साथ किसी भाव में बैठकर युति करते हैं तो जेल योग बनता है केतु रस्सी बेड़ी हथकड़ी का कारक ग्रह हैं अशुभ मंगल व राहु के बीच दृष्टि संबंध बनता हो तो अंगारक योग की वजह से ऐसा इंसान हिंसक स्वभाव वाला हो जाता है और अपराध करता है जिससे जेल जाना पड जाता है। शनि मंगल व राहु मुख्य रूप से जेल यात्रा कराने का भी योग बनाते हैं और इनकी युति या आपस में दृष्टि इस तरह की स्थितियां बना देती है कि आखिर इंसान को जेल जाना ही पड जाता है। जन्मकुंडली में सूर्यादि ग्रह समान संख्या में लग्न एवं द्वादश तृतीय एवं एकादश, चतुर्थ, दशम, षष्ठ एवं अष्टम भाव में स्थित हो तो यह बंधन योग बनाता है यह स्थिति