प्रमाण-पत्र वितरण के साथ समाप्त हुआ निफ़्ट का क्राफ्ट बाज़ार


रायबरेली। राष्ट्रीय फैशन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) रायबरेली द्वारा आयोजित दो-दिवसीय हस्तशिल्प एवं हथकरघा मेला मंगलवार की शाम कारीगरों एवं शिल्पकारों को प्रमाण-पत्र वितरण के साथ समाप्त हुआ। क्राफ्ट मेले के समापन समारोह में संस्थान के विद्यार्थियों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मेले के दूसरे दिन रायबरेली एवं आसपास के लगभग 1500 लोगों ने निफ़्ट आकार घूमने एवं खरीददारी का लुफ्ट उठाया।  

प्रमाण-पत्र वितरित करने के उपरांत, निफ़्ट रायबरेली के निदेशक डॉ. भारत साह ने अपने सम्बोधन में प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से आए कारीगरों एवं शिल्पकारों का आभार व्यक्त करते हुए कहा की क्राफ्ट बाज़ार को सफल बनाने में उन सबकी अहम भूमिका रही। उन्होने कहा की उनके द्वारा तैयार की गयी वस्तुएँ पूरे मेले में आकर्षण का केंद्र बना रहा जिसकी सराहना यहाँ आने वाले सभी लोगों ने की। साथ ही डॉ. साह ने यह भी कहा की इन शिल्पकारों द्वारा निर्मित शिल्प निफ़्ट के विद्यार्थियों के लिए भी प्रेरणा का श्रोत है जिससे उन्हे नयी दृष्टि प्राप्त होती है जिसके ज़रीए वे क्राफ्ट के क्षेत्र में नए अनुप्रयोग एवं उन्नयन को शामिल कर पाते हैं। 

समापन समारोह के दौरान अपने उद्बोधन में संस्थान के क्राफ्ट समन्वयक एवं एसोशिएट प्रोफेसर, श्री उज्ज्वल बैनर्जी ने बताया की एक संस्थान के तौर पर निफ़्ट शुरू से ही पारंपरिक शिल्प के प्रकारों के प्रोत्साहन एवं विकास हेतु प्रतिबद्ध रहा है। इसके परिणाम स्वरूप, निफ़्ट हमेशा से ही अपने पाठ्यक्रमों में इन शिल्पों का समावेश सुनिश्चित करता रहा है। इस बार क्राफ्ट बाज़ार में 30 से

भी अधिक प्रकार की वस्तुएँ उपलब्ध रही जो अपने-आप में बेहद उत्साहपुर्ण है। उन्होने मेले की सफलता के लिए कारीगरों एवं शिल्पकारों के साथ-साथ संस्थान के प्रशासन के भरपूर सहयोग एवं विद्यार्थियों के सहभागिता को श्रेया देते हुए कहा की सबके समूहिक प्रयास से ही मेले को लोगों का इतना अभूतपूर्व रेस्पोंस मिला। 

इस बार के मेले में बीस रूपये से लेकर ढाई लाख रुपयों तक के हस्त शिल्प इस मेले में उपलब्ध रहे। यह मेला बच्चों, युवा एवं प्रौढ़ जनता आदि सभी नागरिकों के लिए दो दिन तक आकर्षण का केंद्र बना रहा। मेले के दोनों दिन शहर एवं आसपास की  जनता सुबह 11 बजे से शाम 8 बजे तक इसका लुफ्त उठती रही। दोनों दिन संस्थान के विद्यार्थियों ने शाम को अलग-अलग तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए जिसमे सामूहिक नृत्य, एकल नृत्य, लोकनृत्य, गायन, त्वरित पेंटिंग आदि प्रस्तुत किए गएँ जिनसे मेले की रौनक बढ़ गयी।  

क्राफ्ट बाज़ार के दोनों दिन विभिन्न स्कूलों के बच्चों का भ्रमण कराया गया जिसमे गोपाल सरस्वती विद्या मंदिर, नवोदय विद्यालय, केन्द्रीय विद्यालय, लखनऊ पब्लिक स्कूल, हेमकुंड पब्लिक स्कूल, रेयान इंटरनेशनल स्कूल, सैंट पीटर्स स्कूल एवं अन्य स्कूल शामिल रहें। इस स्कूली विद्यार्थी को मेले में शामिल विभिन्न प्रकार के शिल्प एवं कारीगरी दिखाई गयी और साथ ही उन्हे निफ्ट में पढाये जा रहे विभिन्न पाठयक्रमों की जानकारी भी प्रदान की गयी। ज्ञातव्य हो कि निफ्ट में डिज़ाइन के स्नातक स्तरीय पाँच एवं मैनेजमेंट का स्नातकोत्तर स्तर का एक पाठयक्रम चल रहा हैI यह जानकारी सयुंक्त निदेशक, निफ्ट रायबरेली, श्री एनएस बोरा ने दीI 












 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

जन्म कुंडली में वेश्यावृति के योग

भृगु संहिता के उपचार