आज हम जहाँ भी हैं, सी.एम.एस. की बदौलत हैं

सी.एम.एस. एल्युमनाई इण्टरनेशनल मीट (सिंगापुर एवं थाईलैण्ड चैप्टर)’ का ऑनलाइन आयोजन किया गया, जिसमें सिंगापुर एवं थाईलैण्ड में उच्च पदों पर आसीन सी.एम.एस. के पूर्व छात्रों ने अपने स्कूली दिनों के अनुभवों को साझा किया। एल्युमनाई मीट की अध्यक्षता सी.एम.एस. संस्थापक प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने की। एल्युमनाई मीट की अध्यक्षता करते हुए डा. गाँधी ने कहा कि पूर्व छात्रों का यह विचार-विमर्श वर्तमान छात्रों के मार्गदर्शन हेतु अत्यन्त महत्वपूर्ण है, साथ ही सिंगापुर थाईलैण्ड में रह रहे सी.एम.एस. के पूर्व छात्रों के आपसी सम्पर्क में भी बहुत महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर सी.एम.एस. संस्थापिका-निदेशिका प्रख्यात शिक्षाविद् डा. भारती गाँधी, सी.एम.एस. के विभिन्न कैम्पस की प्रधानाचार्याओं एवं वरिष्ठ पदाधिकारियों ने भी पूर्व छात्रों की इस मीट में प्रतिभाग किया।

            इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए सी.एम.एस. के पूर्व छात्र श्री कार्तिक अग्रवाल, असिस्टेन्ट डायरेक्टर, स्पोर्ट सिंगापुर (मिनिस्ट्री ऑफ स्पोर्ट्स) , श्री राहुल सिंह, लेखक, बैंकर एवं कम्युनिटी बिल्डर, श्री शिवम मिश्रा, एनालिस्ट, रेनफारेस्ट लाइफ पी.टी.. लिमिटेड, सुश्री शाहीन आलम, सीनियर ऑफीसर, इन्डोर्मा पालिस्टर इन्डस्ट्रीज ने कहा कि सी.एम.एस. प्रत्येक बच्चे के सर्वांगीण विकास में भरोसा रखता है और यही चीज सी.एम.एस. को अन्य स्कूलों से अलग करती है।इसी प्रकार, श्री सक्षम मेहरोत्रा, सस्टेनबिलिटी एनालिस्ट, इंजी इम्पैक्ट, श्री पूर्णेन्दु पाण्डेय, डायरेक्टर, .आई. डिजिटल, श्री मनीष गुप्ता, एम.डी. एवं सी..., टेलेन्टन ग्लोबल पी.टी.. लिमिटेड, श्री सिद्धार्थ गोयल, स्टाफ साफ्टवेयर इंजीनियर, डाक्टर एनीव्हेअर, श्री सुकृत सिंह रघुवंशी, सीनियर प्रोडक्ट मैनेजर, पेपॉल, श्री शिव भोले सिंह, लीड साफ्टवेयर इंजीनियर, कैपजेमिनी, श्री संजीव वार्ष्णेय, सीनियर वाइस प्रेसीडेन्ट, डेवलपमेन्ट बैंक ऑफ सिंगापुर, श्री अमित राय, डायरेक्टर, विजवान्टेड पी.टी.. लिमिटेड समेत कई अन्य पूर्व छात्रों ने अपने सारगर्भित विचार व्यक्त किये। सी.एम.एस. के इण्टरनेशनल रिलेशन्स डिपार्टमेन्ट के हेड डा. शिशिर श्रीवास्तव ने सभी प्रतिभागियों पूर्व छात्रों का आभार व्यक्त किया।


 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पक्षी आपका भाग्य बदले

जन्म कुंडली में वेश्यावृति के योग

भृगु संहिता के उपचार